किसानों की बढ़ती संख्या को देखते हुए गाजीपुर बॉर्डर पर फिर बढ़ायी गयी सुरक्षा, तैनात की गयी PAC-RAF की टीम

26 जनवरी को दिल्ली में किसानों ने ट्रैक्टर परेड के नाम पर जिस तरीके से उत्पा’द मचाया है उससे पूरी दुनिया हैरान है. हर तरफ सिर्फ एक ही सवाल उठ रहा है कि क्या ये देश के अन्नदाता है. जिन्होंने प्र’दर्शन के नाम पर इतना ज्यादा उत्पा’द मचा दिया कि देश की धरोहर तक का अपमा’न कर दिया. बता दें कि इस मामले में अब एक के बाद एक वीडियो सामने आ रहे है और लगातार FIR द’र्ज की जा रही है.

तो दूसरी तरफ अब इस पूरे मामले ने राजनीतिक तूल पकड़ लिया है और के के बाद एक विपक्षी दल किसानों के समर्थन में आ रहे है. वही खबर मिली थी कि गाजीपुर बॉर्डर से जल्द ही किसान आन्दोलन खत्म हो सकता है लेकिन रातों रात कुछ ऐसा हुआ है जिसके बाद अब भारी संख्या में किसानों की संख्या गाजीपुर बॉर्डर आर बढ़ती जा रही है.

वही गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों की बढ़ती संख्या ओ देखते हुए अब फिर से कड़ी सुरक्षा कर दी गयी है और PAC-RAF की तैनाती कर दी गई है. इतना ही नहीं गाजीपुर बॉर्डर से अलग सिंघु बॉर्डर पर भी पुलिस ने सुरक्षा बढ़ाई है और यहां के पूरे इलाके को घेर लिया गया है और बैरिकेडिंग बढ़ाई गई है. इसके अलावा मुजफ्फरनगर में भी महापंचायत बुलाई गयी है. जिस पर सबकी निगाहे टिकी हुई है.

गौरतलब है कि जिस तरीके से परेड के नाम कर तां’डव किया किसानों ने उससे सभी आ’हत हुए है और इसी वजह से अब सरकार ने इसको लेकर स’ख्त कदम उठाने शुरू कर दिए है. जानकारी के लिए बता दें कि बीते कुछ समय से किसान सरकार के नए कृषि कानू’नों को लेकर आन्दो’लन कर रहे है और कई दौर की वा’र्ता भी हो चुकी है लेकिन इस मामले में कोई ह’ल नहीं निकल पाया है और अब हाला’त काफी ख़राब हो चुके है.