Weather कड़ाके की ठंड में बारिश ने तोड़ दिया पिछले 10 साल का रिकार्ड

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मेरठ ( meerut news) कड़ाके की ठंड के बीच इस बार बारिश ने पिछले 10 साल का रिकार्ड तोड़ दिया है। मौसम विशेषज्ञों के अनुसार तीन जनवरी 2021 को हुई बारिश से यह रिकार्ड टूटा है। पिछले 10 सालों में 3 जनवरी को इतनी जबरदस्त बारिश नहीं हुई।

यह भी पढ़ें: Muzaffarnagar रेलवे ट्रेक पर पड़े मिले युवक-युवती के शव, ऑनर किलिंग की आशंका पुलिस जांच में जुटी

कृषि अनुसंधान संस्थान ( weather news ) के कृषि मौसम वैज्ञानिक डॉक्टर एन सुभाष के अनुसार तीन जनवरी 2021 को दिन में 2:30 तक रिकार्ड 11:9 मिमी बारिश दर्ज की गई। उन्होंने बताया कि इतनी बारिश तीन जनवरी को पिछले 10 सालों में कभी दर्ज नहीं की गई। डॉक्टर एन सुभाष ( Weather Channel ) के अनुसार तीन जनवरी को न्यूनतम तापमान अपने औसत तापमान से तीन डिग्री अधिक रहा। यानी कि न्यूनतम तापमान 10 डिग्री रिकार्ड किया गया। इसी तरह अधिकतम तापमान औसत से 6 डिग्री कम रहा।

यह भी पढ़ें: यूपी बोर्ड ने चौथी बार बढ़ाई परीक्षा फार्म भरने की तारीख

अधिकतम तापमान 14:7 डिग्री रिकार्ड किया गया। उन्होंने बताया कि पूरब की हवा और बादलों से रात के तापमान में वृद्धि हुई है। बारिश से पश्चिम उत्तर प्रदेश के लोगों का जनजीवन पूरी तरह से अस्तव्यस्त हो गया है। पश्चिमी उत्तर के कुछ जिलों में बारिश के साथ ही ओले भी पड़े हैं। इनमें मुजफ्फरनगर और शामली जिले प्रमुख हैं। इन जिलों में आले पड़ने से जहां फसलों को नुकसान हुआ है वहीं इससे शीत लहर बढ़ने के आसार हैं। सर्द और हड्डियों को जमा देने वाली हवा की वजह से इन जिलों में लोगों का घर से निकलना मुश्किल हो गया है। एनसीआर में भी जबरदस्त बारिश का प्रकोप देखने को मिला।

यह भी पढ़ें: Noida दाैड़ती कार में आग लगी, दंपति और बच्चों ने किसी तरह कूद कर बचाई जान

( weather update ) बताया जा रहा है कि पिछले 10 साल में ये पहली बार है जब जनवरी के महीने में शुरूआती दिनों में इतनी बारिश हुई है। विभाग के मुताबिक हालात में फिलहाल कोई सुधार नहीं होने वाला है, क्योंकि अभी बारिश की संभावना दो दिन तक बनी रहेगी। बताया जा रहा है कि अभी ठंड से राहत मिलने के आसार नहीं हैं। हिमालय क्षेत्र में लगातार हो रही बर्फबारी और तेज हवाओं के चलते मैदानी इलाकों में ठंड बढ़ सकती है। ठंड बढ़ने के साथ ही पश्चिम उत्तर प्रदेश और एनसीआर क्षेत्र में प्रदूषण का स्तर भी तेजी से बढ़ा है।