वरिष्ठ अधिवक्ता ने लगाई फांसी, सुसाइड नोट में भाजपा विधायक पर लगाए गंभीर आरोप, 14 पर केस दर्ज

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मेरठ। जिले में एक वरिष्ठ अधिवक्ता द्वारा फांसी लगाकर आत्महत्या का मामला सामने आया है। पुलिस को शव के पास से सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है। जिसमें भाजपा के एक विधायक पर और ग्राम प्रधान पर उत्पीड़न जैसे गंभीर आरोप लगाए गए हैं। मृतक के परिजनों की तहरीर पर पुलिस ने हस्तिनापुर से भाजपा विधायक दिनेश खटीक समेत 14 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। पुलिस मामले की जांच करने के बाद आगे की कार्रवाई करने की बात कह रही है। वहीं मामले में भाजपा विधायक ने आरोपों से इनकार करते हुए कहा कि राजनीति के तहत उनके खिलाफ मामला दर्ज कराया गया है।

यह भी पढ़ें: पूर्व सांसद तबस्सुम हसन और विधायक नाहिद हसन पर कार्रवाई काे सहारनपुर सांसद ने बताया बदले की भावना, देखें वीडियो

दरअसल, मामला गंगा नगर थाना क्षेत्र के ईशापुरम का है। जहां रहने वाले वरिष्ठ अधिवक्ता ओमकार तोमर ने शनिवार को घर में फांसी लगाकर जान दे दी। परिजनों का कहना है कि उनके बेटे की शादी खतौली मुजफ्फरनगर में की थी। पत्नी के साथ विवाद के चलते ससुराल पक्ष के लोगों ने ओमकार तोमर उनके बेटे और परिवार के अन्य सदस्यों के खिलाफ दहेज उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज कराया था। आरोप है कि बेटे ने खतौली में ससुराल के लोगों पर फायरिंग कर दी थी। उसके बाद ओमकार तोमर और उनके बेटे पर जानलेवा हमले का मुकदमा भी दर्ज कराया था। जिसके बाद खतौली पुलिस लगातार ओमकार चौधरी के घर पर दबिश डाल रही थी।

आरोप है कि भाजपा विधायक दिनेश खटीक ने अधिवक्ता को अपने फार्म हाउस में बुलाकर धमकी दी थी। उसके बाद से ही अधिवक्ता ओंकार तोमर डिप्रेशन में आ गए थे। शनिवार को ओंकार तोमर ने घर पर फांसी लगाकर जान दे दी। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। मौके से सुसाइड नोट भी बरामद कर लिया गया है। थाना प्रभारी विजेंदर ने बताया कि पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है। भाजपा विधायक समेत 14 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

यह भी देखें: यूपी मंत्री मोहसिन रजा ने कही यह बात

अधिवक्ताओं में रोष

इस मामले में भाजपा विधायक का नाम आने से जिले के अधिवक्ताओं में रोष है। अधिवक्ताओं ने देर शाम थाने में जमकर हंगामा काटा और मृतक का शव नहीं उठने दिया। इसके साथ ही सड़क पर भी जाम लगा दिया। विधायक पर केस दर्ज करने के बाद अधिवक्ता शांत हुए और चेतावनी दी है कि अगर भाजपा विधायक के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई तो वे बड़ा आंदोलन करेंगे।