महात्मा गांधी राष्ट्रीय फेलोशिप का खुला पंजीकरण, ग्रेजुएट पास के लिए बड़ा मौक़ा, मिलेगा 60,000 रुपए

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के युवाओं के लिए एक बड़ी खुशखबरी। अब यूपी के जिलों में कौशल और रोजगार को पंख लगेंगे। जिला स्‍तर पर कौशल विकास को बढ़ावा देने के लिए केंद्रीय कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय ने नौ आईआईएम के सहयोग से महात्मा गांधी राष्ट्रीय फैलोशिप 2021-23 (एमजीएनएफ) की शुरुआत की है। इसमें यूपी की राजधानी लखनऊ स्थित आईआईएम भी शामिल है। इस कार्यक्रम में चयनित छ़ात्रों को पहले वर्ष पचास हजार रुपए और दूसरे वर्ष 60 हजार रुपए की छात्रवृत्ति मिलेगी। ग्रेजुएट पास छात्रों के लिए यह बड़ा मौक़ा है। इच्छुक उम्मीदवार के लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं। पंजीकरण 27 मार्च तक खुला रहेगा। यह कार्यक्रम विश्व बैंक से सहायता प्राप्त कार्यक्रम संकल्प (कौशल संवर्धन और आजीविका संवर्धन के लिए ज्ञान जागरूकता) के तहत चलाया जा रहा है।

पल पल बदल रहा है यूपी का मौसम, वेस्टर्न डिस्टर्बेंस एक्टिव यूपी में भी हो सकता है असर

महात्मा गांधी राष्ट्रीय फैलोशिप 2021-23 (एमजीएनएफ) का उद्देश्‍य राष्‍ट्रीय, राज्‍य और जिला स्‍तर पर क्रियान्‍वयन के लिए मानव संसाधन के उपलब्‍ध न होने की चुनौती का सामना करना है। यह जिला कौशल प्रशासन और जिला कौशल समितियों (डीएससी) को और मजबूत करेगा।

स्नातक होना जरूरी:- महात्मा गांधी राष्ट्रीय फैलोशिप 2021-23 के लिए इच्छुक छात्रों के लिए जरूरी है कि, वह भारत का नागरिक हो, उम्मीदवार की न्यूनतम आयु 21 वर्ष व अधिकतम 30 वर्ष होना जरूरी है। इसके लिए मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक होना चाहिए। इसके साथ 3 वर्षों के कार्य अनुभव को प्राथमिकता दी जाएगी। राज्य की आधिकारिक भाषा में प्रवीणता अनिवार्य है। फैलोशिप के लिए केवल ऑनलाइन आवेदन करना होगा।

दो वर्षीय शैक्षणिक कार्यक्रम :- महात्मा गांधी राष्ट्रीय फैलोशिप दो वर्षीय शैक्षणिक कार्यक्रम है। यह जिला प्रशासन के साथ ऑन-ग्राउंड व्यावहारिक अनुभव के एक इनबिल्ट कॉम्पोनेन्ट के साथ है। एमजीएनएफ के तहत फेलोज को जिला कौशल प्रशासन और जिला कौशल समितियों के साथ संलग्न होने के साथ-साथ पूरे स्किल ईकोसिस्टम को समझने में एकेडमिक विशेषज्ञता और तकनीकी दक्षता प्राप्त होगी। साथ ही जिला कौशल विकास योजनाओं के निर्माण के तंत्र के माध्यम से जिला स्तर पर कौशल विकास योजना का प्रबंधन करने में मदद मिलेगी। देश के नौ आईआईएम इसमें मददगार हैं। इनके नाम आईआईएम लखनऊ, आईआईएम बैंगलोर, आईआईएम अहमदाबाद, आईआईएम कोझीकोड, आईआईएम विशाखापत्तनम, आईआईएम-उदयपुर, आईआईएम- नागपुर, आईआईएम-रांची और आईआईएम-जम्मू शामिल हैं।