एनकाउंटर के बाद इलाज को लाया गया बदमाश अस्पताल में ऐसी जगह छिपा, 6 घंटे तक ढूंढती रही पुलिस

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

नोएडा। पुलिस मुठभेड़ में गोली लगने से घायल हुए 25 हज़ार के इनामी बदमाश विजय को पुलिस कस्टडी में इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां वह शौचालय जाने की बात कहकर पुलिस को चकमा देकर फरार हो गया। जिसके बाद पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया और पुलिस के आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए। बदमाश के लिए सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया और साढ़े 6 घंटे तक बदमाश और पुलिस के बीच चूहे बिल्ली के खेल के बाद आखिरकार पुलिस ने एसी की डक्ट में छुपे बदमाश को दबोच लिया और गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

यह भी पढ़ें: NCR में सप्लाई होने से पहले एंटी थेफ्ट सेल ने पकड़ा 5 लाख का नशीला पदार्थ, दो गिरफ्तार

दरअसल, 24 जनवरी को 4 साल के एक मासूम बच्चे की फिरौती के लिए अपहरण करने के बाद उसकी हत्या कर उसके शव को दलदल में दबाने के आरोपी विजय को पुलिस ने एनकाउंटर के बाद गिरफ्तार किया था। इस मामले में पुलिस ने एक आरोप अनिल को पहले ही गिरफ्तार कर लिया था। घायल बदमाश विजय को इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां से वह शौचालय जाने के नाम पर पुलिसकर्मियों को चकमा देकर फरार हो गया। जिला अस्पताल में सर्च अभियान चलाया गया और अस्पताल परिसर में ही आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया।

यह भी देखें: बसपा नेता कलामुद्दीन को बदमाशों ने मारी गोली

जिला अस्पताल प्रबंधन के मुताबिक, आरोपी को सोमवार रात इलाज के लिए पुलिस ने अस्पताल में भर्ती कराया गया था। मुजरिम भागने न पाए इसके लिए उसकी सुरक्षा में तीन से चार पुलिसकर्मी तैनात किए गए थे। आरोपी पुलिसकर्मियों को शौचालय जाने की बात कहकर बाथरूम की खिड़की को तोड़कर एसी की डक्ट में छिप गया था और फरार होने की फिराक में था। मुजरिम के फरार होने की सूचना पर पुलिस के आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए और अस्पताल परिसर को घेर कर बदमाश सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया। जिसके कारण मुजरिम फरार नहीं हो पाया। अंत में पुलिस उसे अस्पताल में कमरा नंबर 11 से गिरफ्तार कर लिया।