आज भारत बंद है, व्यापारी संगठनों और ट्रांसपोर्ट संगठनों की तरफ से बुलाये गए इस बंद में संयुक्त किसान मोर्चा भी कूदा, बंद का किया समर्थन

आज भारत बंद है. पेट्रोल डीजल की बढती कीमतों, GST में खामियों को दूर करने और ई-वे बिल को लेकर ऑल इंडिया ट्रांसपोर्टर्स वेलफेयर एसोसिएशन और देश भर के करीब 40 हजार व्यापारी संगठनों ने इस बंद को बुलाया है. इस दौरान बाज़ार बंद रहेंगे. ट्रांसपोर्ट के कार्यालयों को पूरी तरह बंद रखने की घोषणा की गई है. किसी भी प्रकार की माल की बुकिंग, डिलीवरी, लदाई, उतराई का काम बंद बंद रहेगा.

ऑल इंडिया FMCG डिस्ट्रिब्यूटर्स फेडरेशन, ऑल इंडिया कॉस्मेटिक मैन्यूफैक्चरर्स असोसिएशन, ऑल इंडिया विमेंन्स एंटेरप्रिनियर्स असोसिएशन, फेडेरेशन ऑफ एल्युमिनियम यूटेंसिलस मैन्यूफैक्चरर्स एंड ट्रेडर्स असोसिएशन, नॉर्थ इंडिया स्पाइसिस ट्रेडर्स असोसिएशन, ऑल इंडिया कम्प्यूटर डीलर असोसिएशन, जैसे संगठनों ने बंद को अपना समर्थन दिया है. इसके साथ ही देश के करीब 1 करोड़ ट्रांसपोर्टर और लघु उद्योग और महिला उद्यमियों के भी इस बंद में शामिल होने का दावा किया जा रहा है.

मौका देखते ही किसान संगठन भी इस बंद में कूद पड़े हैं. केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे संयुक्त किसान मोर्चा ने किसानों से अपील की है कि वो ट्रांसपोर्टर्स और ट्रेड यूनियन की तरफ से किए जा रहे भारत बंद में शांतिपूर्वक शामिल हों.

चार्टर्ड अकाउंटेंट्स के एसोसिएशन और टैक्स एडवोकेट्स ने भी अपने क्लाइंट्स को सूचित किया है कि वह शुक्रवार को ऑफिस में ना आएं, क्योंकि बंद के समर्थन में उनके ऑफिस भी बंद रहेंगे. करीब 1500 जगहों पर धरना दिए जाने की भी घोषणा की गई है. कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स ने कहा है कि 26 फरवरी को देश के सभी कमर्शियल बाजार बंद रहेंगे.