देरी से कॉलेज पहुंची छात्राओं को खड़ा किया बाहर, सात छात्राओं की हालत खराब

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
फिरोजाबाद। उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद में देरी से कॉलेज पहुंची छात्राओं को बाहर खड़ा रखने पर सात छात्राओं की तबियत खराब हो गई। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहीं, एबीवीपी पदाधिकारियों ने कॉलेज प्रबंधन का पुतला दहन कर विरोध जताया। डीआईओएस ने इस पूरे मामले को लेकर जांच बैठाई है। एबीवीपी पदाधिकारियों ने कॉलेज प्रबंधन का पुतला दहन कर विरोध जताया।
यह भी पढ़ें—

दूसरों की जान बचाने वाले इस युवा समाजसेवी को भोपाल में मिलेगा एशिया गौरव पुरस्कार, सुहागनगरी गदगद

यह था पूरा मामला
थाना उत्तर क्षेत्र के कोटला चुंगी के समीप स्थित दाऊ दयाल काॅलेज में दस मिनट की देरी से काॅलेज पहुंचने पर प्रिंसीपल ने सभी छात्राओ को काॅलेज से बाहर कर निकालकर गेट बंद करवा दिया। काफी देर धूप में खडे रहने के कारण कई छात्राओं की हालत गर्मी के चलते बिगड़ गई। एम्बुलेंस को सूचना देने पर एम्बुलेंस मौके पर नही पहुंची। उसके बाद साथी छात्राओं ने आॅटो से बेहोश छात्राओ को ट्रामा सेंटर लेकर पहुंची। जंहा चिकित्सको ने उपचार देने के साथ बेहोश छात्राओ को एडमिट कर लिया।
यह भी पढ़ें—

तहसीलदार का पेशकार ले रहा था रिश्वत, वीडियो वायरल होने के बाद मचा हड़कंप

अधिकारियों ने लिया हाल
सूचना पर डीआईओएस बालमुकुंद प्रसाद, मेयर नूतन राठौर, भाजपा महानगर अध्यक्ष राकेश शंखवार ट्रामा सेटर पहुंचे। और उन्होंने छात्राओ का हाल जाना। डीआईओएस ने मामले की जांच कर कार्यवाही करने की बात कहीं है। तबियत खराब होनी वाली छात्राओं में अनुराधा पुत्री कालका प्रसाद, मंजू पुत्री धर्मेन्द्र, अंजू पुत्री देवेन्द्र, नेहा पुत्री राजेश, चंचल पुत्री महेश, जानवी पुत्री सुभाष समेत सात छात्राओ की हालत खराब हो गई। जिनका जिला अस्पताल के ट्रामा सेंटर में उपचार किया जा रहा हैं। डीआईओएस बालमुकुंद प्रसाद का कहना है कि पूरे मामले की जांच कराई जा रही है। दोषियों पर कार्रवाई होगी।