महाराष्ट्र और केरल से यूपी आने वाले किए जाएंगे क्वारंटाइन, योगी सरकार ने लिया बड़ा फैसला

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने महाराष्ट्र और केरल से यूपी आने वाले लोगों के लिए अहम फैसला लिया है। महाराष्ट्र और केरल में कोरोना वायरस के दोबारा पैर पसारने के बाद योगी सरकार ने यूपी को बचाने के लिए तैयारियां तेज कर दी है। दोनों राज्यों से आ रहे लोगों से यूपी में दोबारा कोरोना संक्रमण न फैले इसके लिए कड़े उपाय किए जा रहे हैं। महाराष्ट्र और केरल से यूपी में आने वाले लोगों को अब अनिवार्य रूप से क्वारंटाइन किया जाएगा। वहीं प्रदेश में सभी हवाई अड्डों पर कोरोना जांच के लिए हेल्प डेस्क बनेगी। यहां इन दोनों राज्यों से आ रहे लोगों का कोरोना टेस्ट किया जाएगा। रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर व्यक्ति को 14 दिन और निगेटिव आने पर सात दिन कि लिए क्वारंटाइन किया जाएगा।

स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि दोनों राज्यों में बड़ी संख्या में बढ़ रहे कोरोना मरीजों को देखते हुए यह कदम उठाए गए हैं। हवाई अड्डों पर महाराष्ट्र व केरल से आने वाले लोगों का एंटीजन टेस्ट होगा और अगर वह लक्षणयुक्त पाए जाते हैं तो आरटीपीसीआर जांच कराई जाएगी। रेलवे और बस स्टेशन पर इन दोनों राज्यों से आ रहे लोगों की कोरोना जांच कराने और उनके मजबूत सर्विलांस की व्यवस्था स्वास्थ्य विभाग करेगा।

स्वास्थ्य विभाग रेलवे व परिवहन विभाग से ऐसे लोगों की लिस्ट प्राप्त करेगा, जो महाराष्ट्र और केरल से आए हैं। जांच कराने और उनके सर्विलांस की व्यवस्था करेगा। मोहल्ला व ग्राम निगरानी समितियां ऐसे लोगों पर निगाह रखेंगी। यदि कोई व्यक्ति क्वारंटाइन के नियम तोड़ेगा तो यह निगरानी कमेटियां तत्काल नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र और जिला सर्विलांस टीम को जानकारी देंगी।

सांस के रोगियों की होगी सघन निगरानी

कोरोना संक्रमण होने पर रोगी को सांस लेने में भी दिक्कत होती है। वहीं तमाम ऐसे लोग भी हैं, जिन्हें एक्यूट रेस्पिरेटरी इंफेक्शन होता है। ऐसे लोगों को सांस लेने में काफी कठिनाई होती है। ऐसे में हर क्षेत्र में ऐसे लोगों की सघन निगरानी होगी। अगर कहीं अचानक एक्यूट रेस्पिरेटरी इंफेक्शन के रोगियों की संख्या बढ़ रही है तो तत्काल सर्विलांस टीमें मौके पर जाकर उनकी कोरोना जांच के लिए सैंपल लेंगी।