पूर्व राज्यपाल और पूर्व कैबिनेट सचिव की ई-मेल आईडी हैक, अब ऐसी डिमांड कर रहे हैकर्स

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

नोएडा। साइबर हैकर्स ने झारखंड के पूर्व राज्यपाल और पूर्व कैबिनेट सचिव प्रभात कुमार का ई-मेल आईडी हैक कर लिया है। अब ये हैकर्स ई-मेल आईडी का पासवर्ड बदलकर पूर्व राज्यपाल के परिचितों से रुपये मांग रहे हैं। इस बाबत नोएडा सेक्टर-39 में रहने वाले प्रभात कुमार ने कोतवाली 39 में शिकायत दर्ज कराई है। पुलिस ने अज्ञात साइबर हैकर्स के खिलाफ आईटी एक्ट सहित अन्य धाराओं में केस दर्ज किया है। पुलिस के साथ साइबर सेल की टीम भी मामले की जांच कर रही है।

एडीसीपी रणविजय सिंह ने बताया कि कोतवाली 39 पुलिस को झारखंड के पूर्व गवर्नर प्रभात कुमार की तरफ से शिकायत मिली है। जिसमें कहा गया है कि उनका हॉटमेल पर निजी ई-मेल आईडी है। साइबर अपराधियों ने उनकी ई-मेल आईडी हैक कर ली है। इसके बारे में उन्हें 22 फरवरी को पता चला। जब उन्होंने अपनी ई-मेल आईडी का पासवर्ड डाला तो वह उसे एक्सेस नहीं कर पाए। इसके बाद पीड़ित ने पुलिस को शिकायत दी। पुलिस ने शिकायत के आधार पर केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

यह भी पढ़ें: गर्भवती पत्नी की हत्या करके दाे दिन तक शव के साथ रहा इंजीनियर पति, हैरान कर देगी ये घटना

शिकायत में पूर्व राज्यपाल ने आशंका जताई है कि साइबर अपराधी उनकी ई-मेल आईडी का राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में भी इस्तेमाल कर सकते हैं। अपराधी लगातार पीड़ित के परिचितों को ई-मेल भी भेज रहे हैं। इसके चलते पीड़ित ने पुलिस से मांग की है कि जल्द से जल्द उनकी आईडी को ब्लॉक कराया जाए ताकि किसी अनहोनी से बचा जा सके।

एडीसीपी ने बताया कि पूर्व राज्यपाल ने आशंका जताई है कि साइबर अपराधी उनकी ई-मेल आईडी का राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में भी इस्तेमाल कर सकते हैं। अपराधी लगातार पीड़ित के परिचितों को ई-मेल भी भेज रहे हैं। इसके चलते पीड़ित ने पुलिस से मांग की है कि जल्द से जल्द उनकी आईडी को ब्लॉक कराया जाए ताकि किसी अनहोनी से बचा जा सके। पुलिस की साइबर सेल ने मामले की जांच शुरू कर दी है। ई-मेल आईडी हैक करके ठगी करने और पैसे की मांगने के मामले नोएडा में पहले भी सामने आ चुके हैं।

यह भी देखें: सफाई मशीनों को प्राधिकरण की सीईओ ने हरी झंडी दिखा कर किया रवाना

गौरतलब है कि प्रभात कुमार मूलरूप से यूपी के प्रयागराज के रहने वाले हैं। वह 1963 बैच के आईएएस अधिकारी हैं। उत्तर प्रदेश में वर्ष 1998 से 2000 तक कैबिनेट सचिव रहे। इसके बाद नवंबर 2000 में जब झारखंड नया राज्य बना था तो वह प्रदेश के पहले राज्यपाल बने थे। वह 2 फरवरी 2002 तक झारखंड के राज्यपाल रहे थे।