विधानसभा चुनावों को लेकर भाजपा ने कसी कमर, असम से लेकर तमिलनाडू तक पीएम मोदी की ताबड़तोड़ रैलियां

बहुत जल्द पश्चिम बंगाल में चुनाव की तारीखों का ऐलान होने वाला है और भाजपा ने इस बात बंगाल की सत्ता पर कब्ज़ा जमाने के लिए पूरी ताकत झोंक दी है. यूँ तो इस साल बंगाल के अलावा केरल, तमिलनाडु और असम में भी विधानसभा चुनाव होने हैं. लेकिन असम और बंगाल भाजपा के लिए सबसे ज्यादा अहम है. एक तरफ असम में भाजपा को अपनी सत्ता बचानी है वहीँ दूसरी तरफ बंगाल में ममता को सत्ता से उखाड़ कर खुद को स्थापित करना है और इसका पूरा दारोमदार पीएम नरेंद्र मोदी के कन्धों पर हैं.

भाजपा पीएम मोदी की लोकप्रियता का पूरा फायदा उठाना चाहती है और इसलिए असम से लेकर तमिलनाडू तक उनकी ताबड़तोड़ रैलियों का कार्यक्रम तैयार किया गया है. पीएम मोदी की ये रैलियां 27 फ़रवरी से 7 मार्च तक होंगी. अपनी इन रैलियों के दौरान पीएम मोदी कई परियोजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन भी करेंगे जो विधानसभा चुनावों में गेम चेंजर साबित हो सकते हैं. आखिर कौन भूल सकता है कि किस तरह अकेले ही पीएम मोदी ने बिहार चुनाव की दशा और दिशा बदल दी थी.

पीएम मोदी की ताबड़तोड़ रैलियां 27 फरवरी से शुरू होंगी. 27 फ़रवरी को पीएम केरल जाएंगे. केरल विधानसभा में इस बार भाजपा अपने लिए बड़ा मौका देख रही है और इसलिए मेट्रो मैन ई. श्रीधरन के रूप में उसने एक बड़े चेहरे को पार्टी में शामिल करने की तैयारियां शुरू कर दी है. केरल में भाजपा को हमेशा से ही एक बड़े और स्थापित चेहरे की कमी खलती रही है. ई. श्रीधरन जल्द ही भाजपा में शामिल होने वाली हैं और वो 27 फ़रवरी की पीएम मोदी की रैली में उनके साथ मंच भी साझा कर सकते हैं.

28 फरवरी को पीएम मोदी पश्चिम बंगाल, फिर एक मार्च को तमिलनाडु और दो मार्च को असम का दौरा करेंगे. 7 मार्च को कोलकाता के ब्रिगेड ग्राउंड में पीएम मोदी एक बड़ी रैली करेंगे. इस रैली में लाखों को जुटाने का लक्ष्य रखा गया है. इसी दिन ब्रिगेड मैदान में ही भाजपा की पाँचों परिवर्तन यात्राओं का समापन होगा. भाजपा ने अपनी रथयात्रा की शुरुआत 6 फरवरी को नादिया जिले के नबद्वीप से की थी. दूसरी यात्रा 9 फ़रवरी को बीरभूम जिले के तारापीठ से, तीसरी यात्रा झाड़ग्राम से, चौथी यात्रा कूच बिहार से और पांचवी यात्रा काकद्वीप से रवाना की थी.

हालाँकि इन सभी रैलियों से पहले 22 फ़रवरी को पीएम मोदी हुगली के डनलप मैदान मे एक जनसभा को संबोधित करेंगे. इसी मैदान में दो दिन बाद ममता बनर्जी की रैली भी होने वाली है. ऐसे में दोनों रैलियों में जुटी भीड़ की तुलना होनी स्वाभाविक है. हुगली का डनलप मैदान भाजपा और TMC के लिए शक्ति प्रदर्शन का नया अखाड़ा बनने वाला है. 22 फ़रवरी को ही पीएम मोदी दक्षिणेश्वर मेट्रो स्टेशन का उद्घाटन भी करेंगे. उम्मीद जताई जा रही है कि चुनाव आयोग मार्च के पहले सप्ताह में चुनाव के तारीखों का ऐलान करेगा.