विकास दुबे कांड में अब इस आईपीएस ने दर्ज कराए अपने बयान, एसआईटी जांच में आया था नाम

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

कानपुर. जनपद कानपुर के बिकरू कांड की एसआईटी जांच में दोषी पाए गए प्रमोटी आईपीएस ने डीआईजी डॉ. प्रीतिंदर सिंह को अपने बयान दर्ज कराए। उन्होंने किसी तरह की लापरवाही न बरतने की बात कही है। अब डीआईजी तय करेंगे उन पर क्या कार्रवाई करनी है। एसआईटी जांच में 11 सीओ दोषी पाए गए थे।

प्रमोटी आईपीएस के बयान दर्ज

जांच एसपी पश्चिम डॉ. अनिल कुमार को सौंपी गई थी। एक सीओ प्रमोट होकर आईपीएस हो गए। इस कारण एसपी पश्चिम ने उनकी फाइल डीआईजी को भेज दी थी। डीआईजी ने प्रमोटी आईपीएस के बयान दर्ज किए हैं। वहीं 10 सीओ में पांच बयान दर्ज करा चुके हैं। पांच सेवानिवृत्त हो चुके हैं। इनके बयान कैसे लेने हैं, इस पर विधिक राय लेने के लिए रिपोर्ट भेजी गई है।

ये पाए गये थे दोषी

आपको बता दें कि एसआईटी की जांच में अमित कुमार, तत्कालीन सीओ कार्यालय/ नोडल अधिकारी पासपोर्ट, नंदलाल सिंह, तत्कालीन सीओ बिल्हौर, करुणाशंकर राय, तत्कालीन सीओ बिल्हौर, सुरेंद्र लाल, तत्कालीन सीओ बिल्हौर, प्रेम प्रकाश, तत्कालीन सीओ बिल्हौर, रामप्रकाश अरुण, तत्कालीन सीओ बिल्हौर, सुभाष चंद्र शाक्य, तत्कालीन सीओ बिल्हौर, लक्ष्मी निवास, तत्कालीन सीओ अकबरपुर, हरेंद्र कुमार यादव, तत्कालीन सीओ सीसामऊ, 12 जुलाई 1997 में तैनात तत्कालीन सीओ रसूलाबाद और 24 जुलाई 1997 में तैनात तत्कालीन सीओ बिल्हौर दोषी पाये गए थे।