Ram Mandir : श्री लंका से अयोध्या तक कवियों के इस योजना से सजेगी धरती

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क
अयोध्या. राम मंदिर निर्माण (Ram Temple Construction) के साथ देश मे राममय वातावरण तैयार करने के लिए आज आरएसएस के प्रचारक इंद्रेश कुमार ने कवियों के साथ सरयू जल लेकर संकल्प किया। इस दौरान देश कई कवियों ने भी इस आयोजन में हिस्सा बने।

दरसल 2022 की मकर संक्रांति के दिन श्री लंका से अयोध्या के लिए यात्रा निकाली जाएगी जिसमें राम सबके सब में राम विषय पर गोष्ठी भी जगह-जगह की जाएगी जिस मार्ग से भगवान राम वन गए थे उसी रास्ते से श्री लंका से अयोध्या वापस करेंगे तनु का एकमात्र संगठन और राष्ट्रीय कवि संगम की तरफ से यह यात्रा श्री लंका से अयोध्या तक निकाली जाएगी इस यात्रा में 50 दिन की यात्रा होगी और इस दरमियान 100 से ज्यादा कवि सम्मेलन जगह जगह पर आयोजित किए जाएंगे जिसमें श्री राम सबके सब मे राम की श्री कथा से जागृत करेंगे।

आरएसएस के प्रचारक इंद्रेश कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि कवियों के संगठन राष्ट्रीय कवि संगम रामलला के पक्ष में फैसला आने के बाद यह संकल्प किया था कि श्रीलंका से अयोध्या तक काव्य यात्रा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर निकाली जाएगी 2022 के मकर संक्रांति से श्रीलंका से यह यात्रा प्रारंभ की जाएगी 28 फरवरी को अयोध्या महाशिवरात्रि के मौके पर समाप्त होगी भगवान राम जिस मार्ग से वन गए थे उसी मार्ग से यह यात्रा श्री लंका से वापस आएगी और एक बड़े समारोह के साथ इस को संपन्न किया जाएगा इस बीच राम और सीता का गुणगान किया जाएगा और राम मंदिर निर्माण किस लिए और क्यों है इसकी जानकारी भी लोगों को दी जाएगी जन जागरण करते हुए नए भारत की आगाज करते हुए अयोध्या यात्रा पहुंचेगी इंद्रेश कुमार ने बताया कि सरयू को साक्षी मानकर सरयू जल को हाथ में लेकर प्रदेश के कुछ कवियों और मेरी मौजूदगी में हवन करते हुए संकल्प किया है यात्रा के दौरान जगह जगह पर कवि सम्मेलन भी किया जाएगा संपूर्ण यात्रा के दरमियान 100 से ज्यादा कवि सम्मेलन किया जाएगा राम मंदिर राम राज्य सबके राम सब में राम सभी धर्मों के आराध्य का एक बड़ा रूप भगवान राम हैं।

यह भी पढ़ें :