Ram Temple : मंदिर निर्माण के लिए परखी जाएगी 400 फुट नीचे की परत, 7 स्थानों पर कराई जा रही बोरिंग

सत्य प्रकाश
अयोध्या : मंदिर निर्माण में नींव बनाये जाने के लिए मिट्टी हटाया जा रहा ट्रस्ट के मुताबिक यह कार्य 40 फुट गहराई तक जाने की उम्मीद है। वहीं इस कार्य के बीच भूमि उपलब्धता को लेकर एनएचआरआई ने निर्माण समिति को 100 पन्ने की रिपोर्ट सौंप दी है। जिसके आधार अब परिसर में 400 फूट नीचे भूमि के परत की स्थिति को परखने के लिए 7 स्थानों पर बोरिंग किया जा रहा है।

राम मंदिर निर्माण के नींव बनाये जाने के लिए निर्माण स्थल पर 250 फुट चौड़ा व 400 फुट लंबा खुदाई की जा रही है। लेकिन गहराई के लिए अभी 12 फुट तक की मिट्टी हटाई जा रही है। राम मंदिर ट्रस्ट के मुताबिक यह अनुमान 40 फुट तक लिया जा सकता है। जिसके लिए 4 मशीने लगाई गई है। वहीं दूसरी तरफ परिसर में तैयार हो रहे डिजाइन के लिए भू परीक्षण स्टेप बाय स्टेप हो रहा है।

राम मंदिर ट्रस्ट के महासचिव चम्पतराय के मुताबिक मलवे के ऊपर गरीब भी झोपड़ी नही बनाता है यह तो ठाकुर जी का घर बन रहा है। जिसके लिए मलवा हट रहा है। कब तक हटेगा 12 फुट 15 फुट 50 फुट गहराई तक पूरे इलाके का हटेगा कम से कम 250 फुट चौड़ा और 400 फुट लंबाई और उम्मीद कर रहे हैं कि हो सकता है 40 फुट के नीचे भी जा सकते हैं। एक महा समुद्र बन सकता है। बहुत बुद्धिमानी और सावधानी से इंजीनियर्स काम कर रहे हैं। देश बड़े बड़े संस्थाओं के लिए यह स्थान अनुभव की चीज बन गई है वो यहां एक्सपेरिमेंट कर रहे हैं। बड़े बड़े संस्थान पुल, सड़क, एयरपोर्ट व सुरंग बनाती है। जो 100 - 200 वर्ष तक ही सुरक्षित रहती है लेकिन यह एक ऐसी चीज बन रही है जो चिर स्थाई होगी।