12 दिन पहले दफन हुए मासूम का शव कब्र से आया बाहर, पड़ोसी महिला के चलते हुआ ऐसा, जानें क्यों

सीतापुर. महमूदाबाद कोतवाली क्षेत्र के अंतर्गत तकिया मजरे में तकरीबन 12 दिन पहले मासूम की मौत मामले में एक नया मोड़ आ गया है। अंतिम संस्कार के 12 दिनों बाद परिजनों के आरोपों पर पुलिस ने शव को कब्र से निकाल कर पोस्टमार्टम के लिए जिला मुख्यालय भेजा दिया है। बीते 10 दिनों से मृतक का पिता अपने बेटे की हत्या की आशंका जताकर थाने के चक्कर काट रहा था, लेकिन स्थानीय पुलिस ने मामले में हीलाहवाली बरती। एसपी के निर्देश के बाद 10 दिनों बाद शुरू हुई कार्रवाई से पुलिसिया एक्शन पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं।

 

कब्र से बाहर आया शव

मामला महमूदाबाद कोतवाली क्षेत्र का है। यहां बीती 17 फरवरी को कस्बे के तकिया निवासी मोहम्मद रईस का ढाई वर्षीय बेटा अयाज शाम चार बजे से घर से लापता हो गया था। परिजन लापता होने के कई घण्टों बाद तक बच्चे को ढूंढते रहे लेकिन मासूम का कोई पता नहीं चल सका। परिजनों के मुताबिक 17 फरवरी की देर रात करीब 11 बजे अयाज का शव घर से कुछ ही दूर बने तालाब में परिजनों को मिला। शव मिलने के बाद बाद परिजनों ने अगले दिन 18 फरवरी को अयाज का अंतिम संस्कार गांव में ही बने कब्रिस्तान में कर दिया।

 

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद कार्रवाई

जानकारी के मुताबिक मृतक के पिता रईस को जब 20 फरवरी को पड़ोस की ही शहनाज पत्नी मेहंदी हसन पर शक हुआ तो रईस ने शहनाज के खिलाफ थाने में तहरीर देकर शव का पोस्टमार्टम कराये जाने की मांग की। महमूदाबाद पुलिस द्वारा प्रार्थना पत्र पर तीन दिनों तक कोई कार्रवाई न होने पर हताश होकर परिजनों ने 23 फरवरी को पुलिस अधीक्षक को प्रार्थना पत्र देकर न्याय की गुहार लगायी। एसपी सीतापुर के आदेश के बाद कोतवाली प्रभारी अनिल पांडे, तहसीलदार अशोक कुमार के साथ गांव पहुंचे और शव को कब्र से निकलवाकर पीएम के लिए भेजा। पुलिस का कहना है कि हत्या का आरोप लगा है। जिसके चलते मासूम के शव का पोस्टमार्टम कराया जा रहा है। उनका कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर ही कार्रवाई की जाएगी।

 

यह भी पढ़ें: SBI में नहीं है अकाउंट तो तुरंत खुलवा लें, बैंक अपने खाताधारकों को दे रहा 2 लाख रुपये का सीधा फायदा