हैरतअंगेज, जिसकी हत्या के लिये चार लोगों को हुई सजा, 12 साल बाद जिंदा मिला वो आदमी

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

भदोही. उत्तर प्रदेश के भदोही जनपद में एक बड़ा ही चौंकाने वाला मामला सामने आया है करीब 12 साल पहले एक व्यक्ति का अपहरण होने की सूचना पर 4 लोगों पर मुकदमा लिखा गया था। यह आरोप लगा कि हत्या की नीयत से अपहरण किया गया। मामले में चारों आरोपी करीब तीन साल तक की जेल की सजा काट चुके हैं और अभी जमानत पर है जो व्यक्ति गायब हो गया था और लोग मान रहे थे कि उसकी हत्या हो चुकी है वह अचानक 12 साल बाद अपने ही घर में जिंदा मिला।


भदोही जनपद के गोपीगंज थाना क्षेत्र के चक निरंजन गांव के रहने वाले जोखन तिवारी का अपहरण करने का आरोप उनके परिजनों ने चार लोगों पर लगाया था मामले में आईपीसी की धारा 364 जिसके मुताबिक हत्या की नीयत से अपहरण करने के साथ ही 504, 506 के तहत गोपीगंज थाना में मुकदमा दर्ज कराया था इस प्रकरण में नामजद सभी चार आरोपी मुकदमा दर्ज होने के बाद एक हफ्ते के अंदर गिरफ्तार कर लिए गए थे जिसके बाद दो अलग अलग बार 3 साल दो महीने तक सभी आरोपी जेल में बंद रहे ,हाईकोर्ट से इस समय सभी जमानत पर हैं जिस व्यक्ति का हत्या की नियत से अपहरण करना बताया जा रहा था वह व्यक्ति करीब 12 साल के बाद अपने घर में मिला है। जिन 4 आरोपियों ने इतने साल जेल की सजा काटी उनका कहना है कि वह निर्दोष है उनको साजिश के तहत फसाया गया है।


आपको बता दें कि जोखन तिवारी आज अपने घर आया हुआ था जो आरोपी हैं उनके परिजनों ने उसको देख लिया और पुलिस को सूचना दी जिसके बाद पुलिस उसको गोपीगंज थाना लेकर आई है और उसके बयान दर्ज किए जा रहे हैं इस मामले में सबसे चौंकाने वाली बात यह है कि 2008 से अब तक जिस व्यक्ति का पता नहीं चल रहा था उसकी पत्नी ने दो बच्चों को भी जन्म दिया है जोखन तिवारी ने कहा कि जिन चार आरोपियों पर उनके परिजनों ने मुकदमा लिखाया था उन्हीं लोगों ने उसको मारपीट कर कहीं फेंक दिया था वही जब उससे पूछा गया कि इस बीच उसकी पत्नी को एक लड़का और एक लड़की कैसे हुई तो वह इस पर कोई सही तरीके से जवाब नहीं दे सका वही इस बीच में कहां रहा इसके विषय में भी वह गोलमोल जवाब देता रहा।


इस पूरे मामले में जोखन तिवारी के गायब होने पर उसके भाई ने दूधनाथ तिवारी, काशीनाथ तिवारी, वंशराज तिवारी और रामअवतार तिवारी पर हत्या की नियत से अपहरण करने का मुकदमा दर्ज कराया था मामले में पुलिस का कहना है कि उक्त मामले में अपहरण का मुकदमा दर्ज हुआ था जिसके बाद यह व्यक्ति मिला नहीं अब मिला है मामले में उससे पूछताछ की जाएगी और मामला कोर्ट के समक्ष है उक्त व्यक्ति को कोर्ट में पेश किया जाएगा और इस प्रकरण में आगे न्यायालय पर निर्भर है कि वहां से क्या कार्रवाई होती है।

By Mahesh Jaiswal