कश्मीर में पहली बार लगेगी बाबा साहब अंबेडकर की प्रतिमा, देश के कोने-कोने से पानी मंगाकर हुआ जलाभिषेक

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मुजफ्फरनगर। मोदी सरकार में कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के बाद जम्मू कश्मीर में संविधान के निर्माता बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की पहली प्रतिमा स्थापित करने की तैयारी जोरों पर है। यह प्रतिमा मुजफ्फरनगर से जम्मू कश्मीर जाएगी। मुजफ्फरनगर के थाना सिविल लाइन क्षेत्र के महावीर चौक स्थित राजकीय इंटर कॉलेज के मैदान में एक बड़े कार्यक्रम में बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा का जलाभिषेक किया गया। जिसमें केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान और परमधाम न्यास के संस्थापक चंद्र मोहन महाराज ने भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा का मंत्रोच्चारण के साथ जलाभिषेक किया। जिसमें मैदान खचाखच भरा हुआ था।

यह भी पढ़ें: मौसम विभाग का अलर्ट, 24 घंटे में इन जगहों पर पड़ेगी जोरदार बारिश!

इस दौरान परमधाम न्यास के संस्थापक चंद्र मोहन दास महाराज ने बताया कि जम्मू कश्मीर में बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की यह पहली प्रतिमा स्थापित हो रही है और यह जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के बाद संभव हो सका है। पिछले साल 12 जनवरी 2020 को इसी जगह से घोषणा की गई थी कि बाबा साहब की प्रतिमा कश्मीर में स्थापित करेंगे क्योंकि धारा 370 हटाने के बाद पूरे देश में संविधान लागू हो गया। लेकिन कोरोना के कारण इसमें थोड़ा विलंब हुआ है। हमने देश के चारों कोने तमिल नाडु और मणिपुर के जल से गुजरात, कश्मीर और मुजफ्फरनगर के जल से बाबा साहब की प्रतिमा का अभिषेक किया है। अब हम इस प्रतिमा को कश्मीर में स्थापित करेंगे।

उन्होंने कहा कि यह हम हिंदुस्तानियों का दुर्भाग्य है कि कश्मीर में बाबा साहब की कोई प्रतिमा नहीं है। प्रतिमा के बाद हम चाहते हैं कि देश का मजदूर और किसान तभी खुश होगा जब दो विषयों पर विशेष तौर पर सरकार गहराई से चिंतन करें। एक तो पूरे देश में पढ़ाई एक समान और फ्री होनी चाहिए। अमीर और गरीब की पढ़ाई में अंतर नहीं होना चाहिए और दूसरा जनसंख्या नियंत्रण पर कठोर कानून बनना चाहिए क्योंकि महंगाई बेरोजगारी और गरीबी का एक मुख्य कारण जनसंख्या विस्फोट है। कश्मीर में बाबा साहब की प्रतिमा को स्थापित करके हम पाकिस्तान को तकलीफ देना चाहते हैं कि वे समझे हिंदुस्तान एक है।

यह भी देखें: प्रमिला पांडे ने बॉल फेंकी तो सतीश महाना ने हिट किया

केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान ने कहा कि कि हिंद किसान मजदूर समिति की तरफ से कार्यक्रम था। जिसमें किसान और मजदूर शामिल हुए। पिछले साल एक कार्यक्रम हुआ था। सीएए बिल के समर्थन में तो उसमें एक बात आई थी कि जम्मू कश्मीर में बाबा साहब की कोई मूर्ति नहीं है तो उनकी मूर्ति को वहां स्थापित करवाने को लेकर भी कार्यक्रम था। जो किसानों का आंदोलन चल रहा है उसके बारे में भी अपनी बात रखने का कहीं ना कहीं किसानों के बीच में मुझे मौका मिला है। मैं भारतीय जनता पार्टी का सांसद हूं और केंद्र में मंत्री हूं। अगर केंद्र सरकार का कोई फैसला है, तो उसका हिस्सा हूं। मैं कहा कि किसानों के बीच में जो एक भ्रम फैलाया जा रहा है कि आपकी जमीन ले ली जाएगी, तो मोदी जी के रहते हुए ऐसा कभी नहीं हो सकता। अगर किसानों की जमीन छीनी जाती है तो सबसे पहले संजीव बालियान इस्तीफा देकर अपने गांव आ जाएगा।