आपकी आशाओं व उम्मीदों पर खरा उतरने की कोशिश कर रहीं हूं : मेनका गांधी

सुलतानपुर. तीन दिवसीय दौरे के अंतिम दिन पर अपने संसदीय क्षेत्र सुल्तानपुर में पूर्व केंद्रीय मंत्री व सांसद मेनका संजय गांधी ने जिला योजना की बैठक में शामिल होने के साथ - साथ गांवो में आयोजित आधे दर्जन जन चौपालों को भी संबोधित किया। उन्होंने कहा मैं आपकी तकलीफ़ों के समाधान के लिए आती हूँ और गांव गांव जाकर लोगों से सीधा संवाद स्थापित करती हूं। उन्होंने कहा संसदीय क्षेत्र में पौने दो सालों में मैंने लगभग 500 करोड़ रूपये के बड़े-बड़े काम किया है। लेकिन मुझे सुकून तब मिलता है जब मै आपकी व्यक्तिगत जिन्दगी मेंआई छोटी - छोटी दिक्कतों का समाधान कराती हूं। मैं मेहनत व ईमानदारी से जनता की सेवा करती हूं और मैं चाहती हूं कि जिला व पुलिस प्रशासन के लोग भी जनता का काम बिना लटकाए इमानदारी से करें।

मेनका गांधी ने जयसिंहपुर के अमिलिया विसुई, माधोपुर छतौना, फत्तेपुर संगत व कूरेभार के सैदपुर आदि ग्रामों में आयोजित जन चौपालों को संबोधित करते हुए कहा कि आगामी पंचायत चुनाव में प्रधान, बीडीसी, एवं जिला पंचायत में पार्टी अधिकृत प्रत्याशी को जिताये जो मेरी तरह आपकी सेवा के साथ- साथ क्षेत्र के उत्थान के लिए काम करे। उन्होंने कहा मैं आपको देने के लिए आती हूं कुछ लेने के लिए नहीं।उन्होंने कहा सुलतानपुर मेरे परिवार की तरह है। मैं सभी को खुश देखना चाहती हूं। उन्होंने कहा जब मै यहाँ आई तो पता चला एक एक गांव में औसत 160 लड़ाइयां है। अब यहां चार महीनों में जनपद में 10 हजार लड़ाइयों का समाधान हुआ है जो उत्तर प्रदेश में नम्बर एक पर है। उन्होंने कहा कि सड़क हो या विद्युत की समस्या मैने गांवो में 700 ट्रांसफार्मर की क्षमता वृद्धि कराई जिससे आज गांव से लेकर जिला मुख्यालय तक निर्बाध रूप से विद्युत सप्लाई मिल रही है। इसके साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि कई स्थानों पर रामायण पार्क ,कमल सरोवर व विभिन्न प्रकार के आकर्षक पौधों व पुष्प पौध का रोपण करके इसे विकसित करने की जरूरत है, जिसके लिए बजट का प्रस्ताव रखा गया है। इसके अतिरिक्त जनपद में पशुओं के एक बड़े अस्पताल के निर्माण के लिए भी बजट का प्रस्ताव रखा गया है।

ये भी पढ़ें: कोरोना काल में स्कूल खुलने के पहले ही दिन बगैर मास्क के क्लास रूम में दिखाई दिए बच्चे, टीचरों ने पढ़ाना नहीं समझा मुनासिब

ये भी पढ़ें: बीएचयू में धरने पर बैठी महिला प्रोफेसर का आरोप, दलित होने की वजह से हो रहा उत्पीड़न, क्लास लेने से रोकते हैं अन्य शिक्षक