एक ऐसा गाँव जहां आजादी के बाद से एक ही घर के इर्द-गिर्द रही गांव की सत्ता

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क

रायबरेली. (raebareli) जगतपुर ब्लॉक क्षेत्र (Jagatpur Block Area ) की हरदी टीकर एक ऐसी ग्राम पंचायत है जहां गांव की सत्ता आजादी से लेकर आज तक एक ही घर के इर्द-गिर्द घूम रही है ।यह दीगर बात है कि 2 चुनाव में सीट आरक्षित हो गई थी। लेकिन घर के लोगों ने जिसको चाहा वही प्रधान बना ।इस बार चुनाव में सीट फिर अनारक्षित होने के कारण घर में ही सत्ता कायम रहने की उम्मीद है।

यह भी पढ़े: परिषदीय स्कूल में दो महिला शिक्षकों के बीच हुई कहासुनी के बाद मारपीट,बीएसए ने दिए जांच के

एक ही घर के इर्द-गिर्द रही गांव की सत्ता

जगतपुर ब्लॉक क्षेत्र ग्राम पंचायत हरदी टीकर (Hardi Tikar) की आबादी करीब 3200 है। इस ग्राम पंचायत (Village Panchayat) में वर्ष 1960 से सत्यनारायण सिंह ने चुनाव लड़ा हालांकि सामने किसी ने पर्चा नहीं दाखिल किया था वह निर्विरोध चुने गए। सत्य नारायण सिंह 1985 तक निर्विरोध चुनाव जीते हैं। इसके बाद वह वर्ष 1995 तक चुनाव जीतने के बाद गाँव मे विकास करते रहे। वर्ष 1995 में सत्य नारायण सिंह की पत्नी सविता सिंह चुनाव निर्विरोध जीती। वर्ष 2000 में चुनाव फिर सत्यनारायण सिंह के हाथों में गांव वालों ने सत्ता सौंपी। वर्ष 2005 के चुनाव में सीट आरक्षित होने पर महादेव और वर्ष 2010 में आरक्षित सीट होने पर रति पाल को प्रधान बनाया गया था। वर्ष 2015 में सीट अनारक्षित होने के बाद सत्यनारायण सिंह के बेटे अमरेश सिंह ने गांव की बागडोर संभाली। 2021 में फिर से अनारक्षित सीट होने के कारण अमरेश सिंह प्रबल दावेदार हैं निवर्तमान प्रधान अमरेश सिंह का कहना है कि हमारा परिवार गांव के लोगों के सुख-दुख में खड़ा रहता है। इसलिए लगातार गांव का सहयोग मिल रहा है। गांव के विकास के लिए लगातार प्रयास किया जा रहा है।