अस्थाई जेल में रेप आरोपी की मौत, पुलिस पर लापरवाही का आरोप

कानपुर. चौबेपुर स्थित अस्थाई जेल में रेप आरोपी की मौत के बाद पुलिस प्रशासन में हड़कंप मचा है। चर्चा कि पुलिस अगर उपचार समय पर कराती, तो उसकी जान बच जाती है। जिसे भीड़ ने पीटकर मरणासन्न कर दिया था। पुलिस की लापरवाही से उसकी जान गई। इस संबंध में एसपी ग्रामीण ने कहा कि आरोपी को ग्रामीणों ने पीटा था। जिसके बाद पुलिस के सुपुर्द किया गया। पुलिस ने आरोपी को नहीं मारा।

सचेंडी दिलीपपुर के गांव की घटना

सचेंडी दिलीपपुर के गांव निवासी किशोरी ने गांव के ही रहने वाले सुमित बाजपेई पर रेप और जान से मारने का प्रयास का आरोप लगाया था। इस संबंध में उसने थाना में तहरीर देकर बताया कि सुबोध उसे खेत में ले गया। जहां उसका साथ रेप कर मारने का प्रयास किया। पीड़िता की तहरीर पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया। वहीं आरोपी की तलाश शुरू कर दी। इधर शनिवार की सुबह स्थानीय लोगों ने सुबोध को कुकरहा रेलवे क्रॉसिंग सचेंडी के पास देख लिया। भीड़ ने मौके पर उसकी जमकर पिटाई कर दी। इसकी जानकारी उन्होंने पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने सुबोध को गिरफ्तार कर ले आई। जिसे मेडिकल कराने के बाद कोर्ट में पेश किया। कोर्ट के आदेश पर उसे चौबेपुर स्थित अस्थाई जेल में भेज दिया गया। जहां रविवार को उसकी तबीयत बिगड़ी। जब तक जेल प्रशासन अस्पताल ले जाता। तब तक उसकी मौत हो गई। सुबोध की मौत के बाद पुलिस सवालों के घेरे में है।