बेसिक शिक्षा विभाग में ग्रामीण और नगर काडर होगा खत्म, इस महीने में किया जाएगा शिक्षकों का समायोजन, सरकार का आदेश

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

लखनऊ. Basic Shiksha Vibhag Teacher: उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार जल्द ही बेसिक शिक्षकों की सेवा नियमावली में बदलाव करने वाली है। जिसमें ग्रामीण और नगर काडर को पूरी तरह से खत्म किया जा सकता है। इसके लिए विशेषज्ञों के साथ बेसिक शिक्षा विभाग का मंथन चल रहा है। इसके बाद शिक्षकों का समायोजन किया जाएगा। यह जानकारी विधानसभा में प्रश्न प्रहर के दौरान बसपा के लालजी वर्मा के सवाल पर बेसिक शिक्षा मंत्री डा. सतीश द्विवेदी ने कहीं। मंत्री ने कहा कि बेसिक शिक्षकों का समायोजन ग्रीष्म कालीन अवकाश के दौरान किया जाएगा।

ग्रामीण से शहरों में होगा समायोजन

बेसिक शिक्षा मंत्री ने कहा कि नगर क्षेत्र में सहायक अध्‍यापक व प्रधानाध्‍यापक के पद खाली हैं लेकिन प्रदेश के नगर क्षेत्र में संचालित 4,490 प्राथमिक विद्यालयों में 5,46,157 नामांकित छात्र-छात्राओं की तुलना में 9,467 शिक्षक और 3,843 शिक्षा मित्र कार्यरत हैं। कार्यरत शिक्षकों-शिक्षा मित्रों से शिक्षण कार्य सुचारू रूप से कराया जा रहा है। इस पर बसपा के लालजी वर्मा ने कहा कि कई जिलों में ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षकों और नगर क्षेत्र में शिक्षकों में संतुलन नहीं है। कहीं ज्यादा हैं तो कहीं कम शिक्षक हैं। इस पर मंत्री ने कहा कि अम्बेडकरनगर के नगर शिक्षा क्षेत्र टाण्डा में 11 प्राथमिक विद्यालय और तीन उच्‍च प्राथमिक विद्यालय संचालित हैं, जिसमें 1265 (प्राथमिक विद्यालय में 1167 और उच्‍च प्राथमिक विद्यालय में 98) छात्र-छात्राएं पढ़ाई कर रहे हैं। प्राथमिक / उच्‍च प्राथमिक विद्यालयों में 8 सहायक अध्‍यापक और 15 शिक्षा मित्र कार्यरत हैं, जिनसे शिक्षण कार्य सुचारू रूप से कराया जा रहा है।

जल्द होगी तैनाती

साथ ही मंत्री ने कहा कि सरकार जल्द ही खाली पदों पर शिक्षकों की नियुक्ति अथवा तैनाती करेगी। उन्होंने कहा कि बेसिक शिक्षकों की सेवा नियमावली में बदलाव किया जाएगा। नगर और ग्रामीण काडर खत्म करने पर गंभीरता से मंथन हो रहा है और सदन जब अगली बार बैठेगा तब तक यह नियमावली कैबिनेट की मंजूरी के बाद लागू कर दी जाएगी। बेसिक शिक्षकों का समायोजन ग्रीष्म कालीन अवकाश के दौरान किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: SBI में नहीं है अकाउंट तो तुरंत खुलवा लें, बैंक अपने खाताधारकों को दे रहा 2 लाख रुपये का सीधा फायदा