बीएसपी से निलंबित विधायक को कोर्ट ने सुनाई इतने दिनों के कारावास की सजा, लगाया गया इतना जुर्माना

सीतापुर. यूपी के सीतापुर के सिधौली विधानसभा से बसपा से निलंबित विधायक हर गोविंद भार्गव सहित चार लोगों को आचार संहिता उल्लंघन के मामले में दोषी करार देते हुए 10 दिन का साधारण कारावास की सजा सुनाई। कोर्ट ने विधायक सहित उनके 4 समर्थकों को भी 10 दिन का कारावास के साथ ही साथ 200-200 रूपये का जुर्माना भी लगाया है। कोर्ट ने निजी मुचलके के आधार पर विधायम सहित उनके समर्थको को अग्रिम जमानत दे दी हैं।


निलंबित विधायक दोषी करार

जिला एवं सत्र न्यायालय के फास्ट ट्रैक भवन में बने एमपी-एमएलए कोर्ट की विशेष न्यायाधीश पूर्णिमा पाठक ने बसपा से निलंबित विधायक हरगोविंद भार्ग व उनके सह योगी राशिद खान, रामलखन गौतम व डब्लू गुप्ता को फरवरी वर्ष 2017 में हुए विधानसभा सभा चुनाव के दौरान आचार संहिता के उल्लंघन के मामले में दोषी करार दिया हैं। निलंबित विधायक हरगोविंद भार्गव सहित उनके तीनों सहयोगियों को 10-10 दिनों की साधारण कारावास की सजा सुनाई है और साथ ही साथ इन सभी पर 200- 200 रूपये के अर्थदंड भी की सजा सुनाई है।

कोर्ट ने दी सजा

गौरतलब है कि वर्ष 2017 में बसपा से सिधौली विधानसभा से विधायक पद के प्रत्याशी रहे हरगोविंद भार्गव व उसके सहयोगी रासिद खान, रामलखन गौतम व डब्लू गुप्ता पर आचार संहिता के उल्लंघन के मामले में सिधौली कोतवाली में प्रशासन ने मुकदमा दर्ज कराया गया था। शासकीय अधिवक्ता गिरेन्द्र सिंह यादव ने बताया कि फास्ट ट्रैक कोर्ट में बसपा विधायक हरगोविंद भार्गव उनका एक शांतिपूर्ण भंग करने का मामला विचाराधीन था उनके तीन अन्य समर्थन भी साथ थे। उन्होंने बताया कि न्यायालय ने धारा 188 ipc के अन्तर्गत दोषी करार देते हुए विधायक सहित समर्थकों को 10- 10 दिन के साधन कारावास की सजा के साथ ही 200-200 रूपये का जुर्माना लगाया है। विधायक पर आए इस फैसले के बाद अन्य विधायको की भी धड़कने बढ़ गयी हैं क्योंकि हरगोविंद सहित अन्य विधायको पर भी आचार सहित उल्लंघन सहित शांति भंग मामलों के केस विचाराधीन चल रहे हैं।

यह भी पढ़ें: SBI में नहीं है अकाउंट तो तुरंत खुलवा लें, बैंक अपने खाताधारकों को दे रहा 2 लाख रुपये का सीधा फायदा