पीरजादा अब्बास सिद्धीकी ने कांग्रेस में मचाई खलबली : आनंद शर्मा ने उठाये सवाल तो अधीर रंजन चौधरी ने दिया ये जवाब

पश्चिम बंगाल में फुरफुरा शरीफ के पीरजादा अब्बास सिद्धिकी की पार्टी इंडियन सेक्युलर फ्रंट (आईएसएफ) के साथ कांग्रेस के गठबंधन ने कांग्रेस के अंदर खलबली मचा दी है. वरिष्ठ कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने इस गठबंधन पर सवाल उठाये और पार्टी को सेक्युलरिज्म के सिद्धांतों से भटका हुआ बताया तो बंगाल में पार्टी के प्रभारी अधीर रंजन चौधरी ने आनंद शर्मा को जवाब देते हुए इस गठबंधन को जायज बताया.

आनंद शर्मा ने ट्वीट करते हुए कहा कि सांप्रदायिकता के खिलाफ लड़ाई में कांग्रेस चयनात्मक नहीं हो सकती है. हमें हर सांप्रदायिकता के हर रूप से लड़ना है. पश्चिम बंगाल प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष की उपस्थिति और समर्थन शर्मनाक है, उन्हें अपना पक्ष स्पष्ट करना चाहिए. आईएसएफ और ऐसे अन्य दलों से साथ कांग्रेस का गठबंधन पार्टी की मूल विचारधारा, गांधीवाद और नेहरूवादी धर्मनिरपेक्षता के खिलाफ है, जो कांग्रेस पार्टी की आत्मा है. इन मुद्दों को कांग्रेस कार्य समिति पर चर्चा होनी चाहिए थी.

अब बंगाल में कांग्रेस के प्रभारी अधीर रंजन चौधरी ने आनंद शर्मा को जवाब देते हुए कहा है कि वो जो भी फैसले ले रहे हैं वो आलाकमान की मंजूरी से ले रहे हैं. इसके साथ ही उन्होंने आनंद शर्मा को नसीहत भी दे दी कि उन्हें 5 राज्यों में प्रचार कर पार्टी को मजबूत करना चाहिए न कि बयानबाजी कर पार्टी को कमजोर. अधीर रंजन चौधरी ने ट्वीट करते हुए कहा, ‘हम लोग प्रदेश प्रभारी हैं. कोई भी फैसला खुद से नहीं लेते हैं जब तक कि आलाकमान से आदेश नहीं मिलता है. उन्होंने ये भी कहा कि पीरजादा की पार्टी को लेफ्ट ने अपने कोटे से सीट दी है. जो लोग इंडियन सेकुलर फ्रंट को सांप्रदायिक कह रहे हैं वह बीजेपी के एजेंडे पर चल रहे हैं.