कानपुर के कार्डियोलॉजी अस्पताल में लगी भीषण आग, खिड़कियां तोड़कर बेड समेत निकाले गए मरीज, सीएम ने दिये जांच के आदेश

कानपुर. जनपद कानपुर में हृदय रोग संस्थान के आईसीयू में अचानक भीषण आग लग गई। आग लगने की सूचना पर हड़कंप मच गया और आनन-फानन में आईसीयू में एडमिट मरीजों को खिड़कियां तोड़कर बेड समेत बाहर निकाला गया। अस्पताल में 100 से ज्यादा मरीजों फंसे थे। वहीं आग लगने की जानकारी मिलते ही पुलिस और दमकल की 2 गाड़ियां मौके पर पहुंची और कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। फिलहाल हादसे में किसी के हताहत होने की कोई खबर नहीं है। वहीं आग लगने के कारणों का भी अभी पता नहीं चला सका है। एसपी वेस्ट के मुताबिक आईसीयू से सभी मरीजों को सकुशल बाहर निकाल लिया गया है। बाकी मरीजों और तीमारदारों को भी बाहर निकाला गया है। फिलहाल अभी आग लगने की वजह का सही पता नहीं चल सका है।

मरीजों को दूसरी जगह किया गया शिफ्ट

जानकारी के मुताबिक 138 मरीजों को इस अस्पताल से दूसरी जगह शिफ्ट किया जा चुका है। कुछ मरीजों को हैलट अस्पताल भेजा गया है। इस मामले में जांच टीम भी गठित कर दी गई है। आपको बता दें कि कानपुर के स्वरूपनगर थाना क्षेत्र स्थित हृदय रोग संस्थान (कार्डियोलॉजी) बड़ा सरकारी अस्पताल है। यहां कानपुर देहात और आस-पास के इलाकों से बड़ी संख्या में दिल के मरीज ऑपरेशन और इलाज के लिए आते हैं।

खिड़कियों से मरीज निकाले गए बाहर

वहीं मरीजों की अगर मानें तो अस्पताल में आग शार्ट सर्किट की वजह से लगी। जो बड़ी तेजी से पूरे आईसीयू और अन्य बिल्डिंग में भी फैल गई। पुलिस कमिशनर असीम अरुण ने बताया कि सुबह 7.55 पर आग लगने की सूचना मिली थी। जिसके बाद मौके पर फायर ब्रिगेड और पुलिस की टीम पहुंची और आग पर काबू पाया। अगर इस मामले में किसी भी तरह की लापरवाही सामने आती है तो जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी। आपको बता दें कि अस्पताल में आग लगने की सूचना पर पहुंची पुलिस और दमकल विभाग के कर्मचारियों ने सीढ़ियों की मदद से मरीजों को आईसीयू वार्ड से बाहर निकाला। फिलहाल कड़ी मशक्कत के बाद अस्पताल आग पर काबू पाया गया। सभी मरीज सुरक्षित हैं। खिड़कियों को तोड़कर धुंआ बाहर निकाला गया।

सीएम योगी ने दिये जांच के आदेश

वहीं इस पूरे मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी कड़ा रुख अख्तियार करते हुए जिला प्रशासन से सभी घायलों का समुचित इलाज कराने और इस संबंध में तथ्य प्रस्तुत करने के निर्देश दिये हैं। इसके साथ साथ जांच के लिए उन्होंने एक उच्च स्तरीय समिति डीजी फायर सर्विस और प्रमुख सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य व कमिश्नर कानपुर की गठित की है, जो तत्काल मौके पर जाकर संपूर्ण तथ्यों की जांच करेगी। उन्होंने यह भी निर्देश दिए हैं कि जैसे पूर्व में सभी अस्पतालों में अग्निशमन सेवाओं को सुदृढ़ करने के निर्देश दिए गए थे, पुनः से सभी अस्पतालों में जांच करा ली जाए। ताकि इस तरह की दुर्घटना कहीं दूसरे अस्पताल में न हो।

यह भी पढ़ें: Gold Price Today : 28 मार्च 2021 को लखनऊ में सोने की दर, 24 कैरेट और 22 कैरेट सोने की कीमत