आज से फ्री बनेंगे आयुष्मान कार्ड, मिलेगा पांच लाख तक का मुफ्त इलाज, जानें कैसे और कहां बनवा सकतें हैं कार्ड

लखनऊ. केंद्र की मोदी सरकार द्वारा गरीबों के मुफ्त इलाज के लिए शुरू किए गए प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (PMJAY) की चलाई जा रही है। इस योजना के तहत आयुष्मान कार्ड बनाया जाता है, जिसके तहत लाभार्थी को प्रति वर्ष पांच लाख रुपये तक की निशुल्क चिकित्सा सुविधा हासिल होती है। इस योजना का लाभ ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचे, इसके लिए उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने बुधवार 10 मार्च से आयुष्मान पखवाड़ा की शुरुआत की है। इसके तहत निशुल्क आयुष्मान कार्ड (Free Ayushman Card) बनाए जाएंगे। यह अभियान 24 मार्च तक चलेगा। योगीन आदित्यनाथ सरकार उत्तर प्रदेश में सभी ग्राम पंचायतों में आयुष्मान कार्ड वितरण के लिए कैंप आयोजित करने जा रही है। इस दौरान पात्रों के आयुष्मान कार्ड बनाए जाएंगे।

अभी तक आयुष्मान कार्ड को गोल्डन कार्ड के नाम से जाना जाता था, लेकिन केंद्र सरकार ने इसका नाम बदलकर आयुष्मान कार्ड कर दिया है। अभी मोटे कागज पर यह कार्ड बनाया जा रहा है, आगे प्लास्टिक का मजबूत कार्ड दिया जाएगा। यूपी में करीब 1.06 करोड़ परिवार ऐसे हैं, जिनका आयुष्मान कार्ड अभी तक नहीं बना है। ऐसे में ज्यादा से ज्यादा लोग इस योजना का लाभ ले सकें इसके लिए उत्तर प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से सभी जिलों में इसे लेकर व्यापक प्रचार-प्रसार किया जा रहा है।

निशुल्क इलाज के लिए

-नजदीकी सूचीबद्ध अस्पताल में आरोग्य मित्र से मिलें।
-नजदीकी जन सेवा केंद्र पर संपर्क करें।

कैसे बनवाएं आयुष्मान कार्ड

- आयुष्मान कार्ड सूचीबद्ध निजी व सरकारी अस्पतालों में फ्री बनाए जाते हैं।
- आयुष्मान कार्ड बनवाने के लिए व्यक्तिगत पहचान के लिए आधार कार्ड की जरूरत होती है।
- परिवार की पहचान के लिए राशन कार्ड और परिवार रजिस्टर की कॉपी की भी जरूरत होती है।

आयुष्मान कार्ड से मिलने वाले लाभ

लाभार्थी परिवार को हर साल पांच लाख रुपये तक की निशुल्क चिकित्सा सुविधा मिलती है। इसमें केवल योजना के तहत भर्ती किए गए मरीजों को ही निशुल्क चिकित्सीय सुविधा का लाभ मिलता है।

ये भी पढ़ें: जुफर फारूकी फिर चुने गए सुन्नी वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष, एक वोट के अंतर से सपा के इमरान माबूद खान को हराया

ये भी पढ़ें: पर्यटन क्षेत्र में नई योजना, सरकारी होटलों को लीज पर देगी सरकार