तो क्या जल्द सुलझेगा किसानों का मुद्दा? कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने दिए बड़े संकेत

केंद्र सरकार द्वारा लाए गए खेती क़ानूनों का विरोध अब तक जारी है. किसान पिछले कई महीनों से इन क़ानूनों के ख़िलाफ़ आंदोलन कर रहे हैं. अब तक 11 बार किसान और सरकार के बीच बैठक हुई है लेकिन नतीजा नही निकला. इसके पीछे की वजह ये है कि सरकार किसानों के सामने कई विकल्प रखने को तैयार है लेकिन वो उन्हें रद्द करवाने की मांग पर अड़े हुए हैं.

जानकारी के लिए बता दें किसान और सरकार के बीच तमाम मुद्दों पर सहमति न बन पाने के कारण चले आ रहे इस गतिरोध को ख़त्म करने के सभी प्रयास असफल रहे हैं. अब इसी बीच एक बार केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बड़े संकेत दिए हैं.

दरअसल मध्यप्रदेश के ग्वालियर में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा है कि किसानों और सरकार के बीच चले आ रहे गतिरोध को ख़त्म करने का प्रयास किया जाएगा. उन्होंने कहा है कि ‘सरकार इस मसले को सुलझाने के लिए रास्ता निकालेगी. केंद्र बातचीत के लिए तैयार है और इस मुद्दे को सुलझाना चाहता है.’

The Union Minister for Rural Development, Panchayati Raj, Drinking Water & Sanitation and Urban Development, Shri Narendra Singh Tomar addressing at the launch of the Swachh Sarvekshan (Gramin)- 2017, in New Delhi on August 08, 2017.

ग़ौरतलब है कि हरियाणा, पंजाब और उत्तरप्रदेश सहित कई अन्य राज्यों में पिछले 4 महीने से किसान दिल्ली कि सीमा पर प्रदर्शन कर रहे हैं. एक तरफ़ सरकार का कहना है कि ये बिल किसानों के फ़ायदे के लिए लाया गया है वहीं दूसरी ओर किसान उन्हें रद्द करवाने की मांग पर अड़े हुए हैं और MSP और APMC पर लिखित आश्वासन की मांग कर रहे हैं.