राहुल गांधी के ताने का जवाब ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ताने से दिया, ‘काश उतनी चिंता तब की होती जब मैं कांग्रेस में था’

कांग्रेस छोड़ने को लेकर राहुल गाँधी द्वारा कसे गए तंज पर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने जोरदार जवाब दिया है. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा था कि बीजेपी में ज्योतिरादित्य सिंधिया बैक बेंचर हैं. कांग्रेस में रहते तो वो मुख्यमंत्री बन जाते लेकिन लेकिन कर रख लो, वो वहां कभी मुख्यमंत्री नहीं बनेंगे. अब अपने पुराने दोस्त के इस ताने का जवाब सिंधिया ने ताने से ही दिया है. मीडिया से बात करते हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा ‘काश राहुल गाँधी मेरी चिंता तब करते जब मैं कांग्रेस में था.’

किसी जमाने में किसी ज़माने में राहुल गाँधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच की दोस्ती खूब मशहूर थी. लेकिन राजनीति में कोई भी चेज परमानेंट नहीं होती. गाँधी और सिंधिया की दोस्ती भी परमानेंट नहीं रही. कांग्रेस की अंदरूनी राजनीति में अपना राजनीतिक भविष्य अंधकारमय देख ज्योतिरादित्य सिंधिया ने हाथ का साथ छोड़ कर भाजपा का दामन थाम लिया. सिंधिया सिर्फ पार्टी छोड़ते तो और बात होती, उन्होंने मध्य प्रदेश में 15 सालों बाद मिली कांग्रेस की सत्ता ही छीन ली और कमलनाथ सरकार को गिरा दिया.

सिंधिया का कहना भी ठीक है कि आज राहुल उनकी चिंता कर रहे हैं लेकिन वो तब कहाँ थे जब वो (सिंधिया) कांग्रेस में थे. सिंधिया ने कई बार गांधी परिवार से मिल कर मसलों को सुलझाने की कोशिश की लेकिन उन्हें कोई जवाब नहीं मिला. उन्होंने विधानसभा चुनाव में जी तोड़ मेहनत की और मुख्यमंत्री की कुर्सी दे दी गई कमलनाथ को. मध्य प्रदेश कांग्रेस में उन्हें लगातार नीचा दिखाने की कोशिश हो रही थी. लिहाजा सिंधिया ने अपने समर्थकों के साथ कांग्रेस को अलविदा कह दिया.