विधानसभा चुनाव से पहले तमिलनाडु में बड़ी हलचल, पूर्व सीएम जयललिता की साथी शशिकला ने किया राजनीति से संन्यास का ऐलान

विधानसभा चुनाव से ठीक पहले तमिलनाडु में बड़ी राजनीतिक हलचल देखने को मिली है. पूर्व सीएम जयललिता की सहयोगी और दोस्त रहीं वीके शशिकला ने अचानक ही राजनीति से संन्यास की घोषणा कर दी. शशिकला AIADMK से निलंबित चल रही हैं. राजनीति से संन्यास लेने के ऐलान के बाद शशिकला ने कहा कि उन्होंने कभी सत्ता या पद नहीं चाहा है. वह हमेशा लोगों की भलाई के लिए काम करेंगी और अम्मा (जयललिता) के बताये रास्ते पर चलेंगी.

शशिकला का राजनीति से संन्यास चौंकाने वाला है. क्योंकि जयललिता की मृत्यु के बाद उन्होंने खुद को AIADMK की दावेदार की तरह प्रस्तुत किया था जिसके बाद उन्हें पार्टी से निलंबित कर दिया गया था. अब जेल से निकलने के बाद जहाँ उम्मीद लगे जा रही थी कि वो इन चुनावों में कोई बड़ा कदम उठाएंगी, उन्होंने संन्यास का ही ऐलान कर दिया. शशिकला के संन्यास के ऐलान का भारतीय जनता पार्टी ने स्वागत किया है.

शशिकला ने संन्यास की घोषणा करते ही AIADMK कार्यकर्ताओं के लिए एक अपील भी जारी की. उन्होंने कहा कि AIADMK के कार्यकर्ताओं को एकजुट रहना है और ये सुनिश्चित करना है कि तमिलनाडु में एमजीआर का शासन चलता रहे. उन्होंने कहा, ‘अम्मा (जयललिता) ने कहा था कि वे (डीएमके) दुष्ट शक्तियां हैं. अम्मा के कैडरों को डीएमके को हराने के लिए काम करना चाहिए और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि अम्मा का शासन बना रहे. उन्होंने आगे कहा, ‘मैं तमिलनाडु की जनता की हमेशा आभारी रहूंगी. मैं राजनीति से दूर रहना चाहती हूं, लेकिन दुआ करती हूं कि अम्मा जैसा स्वर्णिम शासन बने. 

तमिलनाडु बीजेपी के अध्यक्ष एल मुरुगन ने राजनीति से संन्यास लेने के शशिकला के फैसले का स्वागत किया और कहा कि हम सब साथ मिलकर यह सुनिश्चित करने के लिए के लिए करने के लिए काम करेंगे कि डीएमके सत्ता में न आ जाए. शशिकला का यह कदम इसी दिशा में है कि अम्मा का स्वर्णिम शासन जारी रहे और डीएमके सत्ता में न आ जाए.