Coronavirus संक्रमण को देखते हुए जेल के बंदियों के लिए टेस्ट अनिवार्य

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मेरठ। जिले में बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखे हुए कई प्रकार के एहतियात कदम स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन ने उठाने शुरू कर दिए हैं। इसी कड़ी में जेल प्रशासन को आदेश भेजा गया है कि जेल में बंद बंदी जब जेल से बाहर जाएगा तो कारगर प्रशासन को ये सुनिश्चित करना होगा क‍ि कोविड नियमों का पालन किया जा रहा है। इसके साथ ही बंदियों के जेल में वापस आने पर उनकी कोविड—19 जांच अनिवार्य कर दी गई है। जेल में आने वाले अन्य विचाराधीन बंदियों को टेस्ट के बाद ही भीतर जाने की अनुमति मिलेगी। उससे पहले सभी नए बंदियों को अस्थााई जेल में रखा जाएगा।

यह भी पढ़ें: UP के इस शहर में एक ही परिवार के दस लोग कोरोना संक्रमित, स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप

अलर्ट मोड पर सभी सिस्टम :—

जिले में अन्य प्रदेशों से आने वाले लोगों की जांच समेत रेलवे स्‍टेशन, बस स्‍टेशन, रेस्‍त्रां, ठेले-खुमचों, खाने पीने की दुकानों समेत शराब के ठेकों, भांग के ठेकों पर इस महा अभियान के तहत फोकस टेस्टिंग की जा रही है। कोविड हेल्‍प डेस्‍क, पब्लिक एड्रेस सिस्टम इंटीग्रेटेड कंट्रोल एंड कमांड सेंटर को अलर्ट पर रखा गया है। सार्वजनिक स्‍थानों पर भीड़ भाड़ होने पर पुलिस द्वारा आवश्‍यक कदम उठाए जाने के निर्देश दिए गए हैं। इसके साथ ही कान्‍टेक्‍ट ट्रेसिंग की प्रक्रिया को गति देते हुए अब प्रदेश में पॉजीटिव पाए जाने वाले व्‍यक्तियों के कान्‍टेक्‍ट में आने वाले औसतन 25 से 30 लोगों को 48 घंटें के भीतर चिन्हित करते हुए उनकी जांच की जाएगी।

यह भी देखें: दिल्ली-नोएडा बॉर्डर पर फिर शुरू होगी रैंडम कोरोना जांच

गौरतलब है कि स्वास्थ्य विभाग ने चेताया है कि कोविड की दूसरी लहर काफी खतरनाक है। वहीं कई रिपोर्ट्स की मानें तो आने वाले दिनों में कोरोना के केसों में तेजी से बढ़ोतरी दर्ज की जाएगी। वहीं यूपी की मानें तो पिछले कुछ दिनों से कोरोना के केस तेजी से सामने आ रहे हैं। जिसके चलते शासन की तरफ से सभी जिला प्रशासनों को सख्ती बरतने के निर्देश दिए गए हैं।