मार्च में गर्मी ने तोड़ा 11 साल का रिकॉर्ड, अप्रैल से मई तक के लिए मौसम विभाग ने की ये भविष्यवाणी

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मेरठ. चक्रवाती ठंडी तेज हवा से पारा एक बार फिर गिर गया है। वेस्ट यूपी में इस समय 30 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज धूल भरी हवाएं चल रही हैं। हालांकि दिन की शुरुआत से सूरज के तेवर आम दिनों की तरह ही रहे। हवा की रफ्तार के चलते उड़ रही धूल वाहन चालकों के लिए परेशानी का कारण बनी हुई है। बता दें कि इस बार मार्च महीने में ही पारा 35 के पार तक पहुंच चुका था। मौसम विभाग के डाॅ. एन सुभाष ने बताया कि मार्च में अधिकतम औसत तापमान 33.1 डिग्री सेल्सियस रहा, जिसके चलते 11 साल में इस बार मार्च का महीना सबसे गर्म रहा।

यह भी पढ़ें- मौसम विभाग का यूपी के कई जिलों में दो दिन बारिश का अलर्ट

मौसम विभाग के अनुसार, मार्च के महीने में आम तौर पर औसत अधिकतम तापमान 29.6 डिग्री सेल्सियस रहता है। मोदीपुरम स्थित कृषि विभाग के मौसम कार्यालय ने पूर्वानुमान व्यक्त किया है कि दिन में मेरठ और पश्चिमी उत्तर प्रदेश का आसमान साफ रहेगा और हवा की रफ्तार 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटा रहेगी। मेरठ में इस समय अधिकतम तापमान 33 डिग्री सेल्सियस है, जो कि दिन में दोपहर के समय कुछ बढ़ सकता है।

अभी और गिरेगा तापमान

मेरठ ही नहीं पूरे एनसीआर में 30 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से धूलभरी हवा चल रही है। आसमान साफ होने की वजह से धूप भी अपने तेवर दिखा रही है। मौसम विभाग के अनुसार, उत्तर भारत के पहाड़ों पर बना पश्चिमी विक्षोभ पूर्वी दिशा की ओर बढ़ गया है, जिससे उत्तर के पहाड़ों पर हाल में हुई बर्फबारी की ठंडक का प्रभाव भी इन उत्तर-पश्चिमी हवाओं के साथ मैदानी भागों में आएगा। जिससे आने वाले दो-तीन दिनों में तापमान में और कमी आ सकती है।

तीन महीने भीषण गर्मी की चेतावनी

मौसम विभाग की मानें तो इस बार गर्मी अपने पुराने रिकॉर्ड तोड़ेगी। भारतीय मौसम विभाग के अनुसार, अगले तीन महीने यानी अप्रैल से लेकर जून तक ज्यादातर मैदानी इलाकों में भीषण गर्मी पड़ेगी और तापमान सामान्य से ऊपर रहेगा। बता दें कि इस बार मार्च में ही गर्मी ने र‍िकॉर्ड तोड़ द‍िए हैं। इसलिए मौसम विभाग का अनुमान है कि इस साल भीषण गर्मी लोगों को काफी परेशान करेगी।

यह भी पढ़ें- Weather Update : फागुन में ही जेठ महीने जैसी तपिश, मौसम वैज्ञानिक बोले- इस वर्ष खूब झुलाएगी गर्मी