इलाहाबाद युनिवर्सिटी 30 अप्रैल तक बंद, संक्रमण को देखते हुए हाईकोर्ट भी चार दिन के लिये बंद किया गया

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

प्रयागराज. तेजी से बढ़ ते कोविड-19 संक्रमण के मद्देनजर इलाहाबाद युनिवर्सिटी को 30 अप्रैल तक बंद कर सील कर दिया गया है। युनिवर्सिटी के शिक्षकों और कर्मचारियों के लगातार कोरोना से संक्रमित होने के चलते ये फैसला लिया गया है। इसके पहले कोरोना के चलते इलाहाबाद युनिवर्सिटी और उससे संबंद्घ काॅलेजों को 21 अप्रैल तक बंद किया गया था। विश्वविद्यालय की सभी परीक्षाएं भी स्थागित कर दी गई थीं।

इसे भी पढ़ें- कोरोना के चलते इलाहाबाद युनिवर्सिटी के बाद ट्र्रिपल आईटी भी 18 अप्रैल तक बंद, हॉस्टल खाली करने को कहा गया


इलाहाबाद युनिवर्सिटी के 100 से अधिक शिक्षक व कर्मचारी कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। संक्रमण और न फैले इसके लिये कुलपति प्रो. संगीता श्रीवास्तव के निर्देश पर ज्वाइंट रजिस्ट्रार एके कन्नौजिया की ओर से युनिवर्सिटी 30 अप्रैल तक बंद करने का आदेश जारी किया गया है। हालांकि संक्रमण बढ़ने के बाद प्रयागराज में यूपी सरकार के नाइट कर्फ्यू लगाने के बाद इलाहाबाद युनिवर्सिटी और संबद्घ काॅलेजों को 21 अप्रैल तक के लिये बंद कर दिया था। 10 अप्रैल से होने वाली युनिवर्सिटी की विषय परीक्षाओं समेत सभी परीक्षाएं टाल दी गई थीं। छात्रों से हाॅस्टल खाली करने को कह दिया गया था।

इसे भी पढ़ें- कोरोना वार्ड में बदलेंगे इलाहाबाद विश्वविद्यालय के हॉस्टल

 

 

अब युनिवर्सिटी ने जिला प्रशासन के अनुरोध के बाद ताजा फैसला लिया है। कुलपति के निर्देश पर असिस्टेंट रजिस्ट्रार देवेश कुमार गोस्वामी ने डभ्एसडब्ल्यू प्रो. केप सिंह को पत्र लिखकर कुलपति के निर्देश पर हाॅस्टल को खाली कराने को कहा गया है। बता दें कि इलाहाबाद विश्वविद्यालय के हाॅस्टलों को कोरोना वार्ड में बदले जाने का फैसला लिा गया है।