शराब माफियाओं के खिलाफ पुलिस का एक्शन, 32 अभियुक्त गिरफ्तार, 1045 लीटर शराब बरामद

सीतापुर. सूबे में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के नजदीक आते ही शराब माफिया धड़ल्ले से अपना कारोबार जमाने में जुट गए हैं। अवैध शराब माफिया नदियों और गांवों के किनारे अपना कारोबार जमाकर धड़ल्ले से शराब बनाने का काम कर रहे हैं। पुलिस ने अवैध शराब से होने वाली मौतों के आंकड़ों को रोकने और चुनाव में वोटरों को लुभाने के लिए प्रयोग की जाने वाली अवैध शराब माफियाओं के खिलाफ अभियान छेड़ रखा है। सीतापुर पुलिस ने इस अभियान में आज 32 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के कहना है कि गिरफ्तार अभियुक्तों के पास से 2 हजार लीटर लहन और 1045 लीटर अवैध कच्ची शराब मौके से बरामद की है।

पुलिस ने की बड़ी कार्रवाई

सीतापुर में पुलिस ने विभिन्न थाना क्षेत्रों में कच्ची शराब माफियाओं की कमर तोड़ने के लिए ताबड़तोड़ कार्रवाई में जुट गयी है। पुलिस लगातार शराब माफियाओ के ठिकानों पर छापेमारी करके उन्हें निस्तोनाबूत करने में जुटे हुए हैं। पुलिस ने आज 13 थाना क्षेत्रों में कार्यवाई करते हुए 32 अभियुक्तों को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की हैं। पुलिस का कहना हैं कि गिरफ्तार अभियुक्तों के पास से 1045 लीटर शराब और तकरीबन 2 हजार लीटर लहन भी बरामद हुयी हैं। पुलिस का दावा हैं कि इस अभियान के दौरान शराब बनाने की 16 भट्टियां नष्ट कर 13 मुकदमे दर्ज किए गए हैं। पुलिस अधीक्षक का कहना हैं कि पंचायत चुनाव तक पुलिस का यह अभियान लगातार जारी रहेगा और शराब माफियाओं को जड़ से खत्म करने का काम पुलिस करेंगी। पुलिस का कहना हैं कि अब तक इस अभियान में 300 सौ से अधिक शराब माफियाओं को गिरफ्तार किया जा चुका है और लगातार यह अभियान चल रहा हैं। पुलिस का कहना है कि शराब माफिया पंचायत चुनाव में अवैध कच्ची शराब का धड़ल्ले से प्रयोग कर रहे हैं।