राकेश टिकैत के काफिले पर हमले के विरोध में 4 अप्रैल को गाजीपुर बॉर्डर पर होगी महापंचायत

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मुजफ्फरनगर. कृषि कानूनों के विरोध में किसान आंदोलन को करीब चार महीने हो चुके हैं, न तो सरकार झुकने को तैयार है और न ही किसान घर वापसी को राजी हैं। इसी बीच राजस्थान में किसान महापंचायत को संबोधित करने जा रहे भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता चौधरी राकेश टिकैत की गाड़ी पर हमले के बाद किसान काफी नाराज हैं। राकेश टिकैत पर हमले के विरोध में किसानों ने दिल्ली समेत उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में रोड जाम कर प्रदर्शन किया। वहीं, भाकियू की राजधानी कहे जाने वाले कस्बा सिसौली में भी किसानों की आवात पंचायत की गई।

यह भी पढ़ें- राकेश टिकैत के काफिले पर हमले के बाद उग्र हुए किसानों ने दिया 24 घंटे का अल्टीमेटम

चौधरी राकेश टिकैत पर हमले के बाद सिसौली में आपात पंचायत की जानकारी मिलते ही देखते ही देखते कुछ ही देर में हजारों की संख्या में किसान भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ता राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी नरेश टिकैत के आवास पर जमा हो गए। इस दौरान पूर्व विधायक राजपाल बालियान ने भी मौके पर पहुंचकर किसानों के बीच किसान नेता चौधरी राकेश टिकैत पर हमले की निंदा की। उन्होंने भारतीय जनता पार्टी नेताओं पर गंभीर आरोप लगाते हुए जमकर भड़ास निकाली। इसके बाद भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी नरेश टिकैत भी पंचायत में पहुंच गए।

इस दौरान नरेश टिकैत ने चौधरी राकेश टिकैत पर हुए हमले की घोर निंदा करते हुए कहा कि उन्हें ऐसी उम्मीद नहीं थी, लेकिन भारतीय जनता पार्टी के लोग अब किसान नेताओं पर हमले को भी उतारू हो गए हैं, जो बेहद निंदनीय है। उन्होंने कहा कि उन्हें बताया गया कि विपक्ष भी उन पर हमला करा सकता है, मगर यह जानते हैं कि विपक्ष हमला नहीं करा सकता। भारतीय जनता पार्टी के लोग किसान आंदोलन से डरे हुए हैं। इस वजह से वे इस तरह के गणित पर काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि गाजीपुर बॉर्डर पर एक बार फिर 4 अप्रैल को महापंचायत होगी, जिसमें उन्होंने अधिक से अधिक संख्या में किसानों को गाजीपुर बॉर्डर महापंचायत में शामिल होने की अपील की।

यह भी पढ़ें- अजय लल्लू ने कहा - असंवेदनशील सरकार के लिए गरीबों के जान की कोई कीमत नहीं