पसीना बहा देने वाली गर्मी के लिए हाे जाएं तैयार, अप्रैल में तापमान 40 के पार जाने की आशंका, जानिए वजह

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मेरठ ( weather update ) हेली के बाद अब पसीना बहा देने वाली गर्मी के लिए तैयार रहिएगा। तेज हवाओं की रफ्तार पर ब्रेक लगने से धूल से भले ही राहत मिली हाे लेकिन अब तापमान ( temperature ) ने तेवर दिखाने शुरू कर दिए हैं। पिछले दो दिन में अधिकतम तापमान 35 डिग्री पर पहुंच चुका है। ऐसे में अप्रैल ( April ) माह तापमान के 40 डिग्री के भी पार जाने की आशंका जताई जा रही है।

यह भी पढ़ें: हाईकाेर्ट की सख्ती के बाद आठ शिक्षकों के खिलाफ FIR दर्ज, फर्जी दस्तावेजाें पर पाई थी नाैकरी

रविवार सुबह ही अधिकतम तापमान 35 और न्यूनतम 20 डिग्री पर पहुंच गया। बता दें कि जो तापमान होली और उससे पहले 30 डिग्री तक पहुंच चुका था। अब एक बार फिर से मौसम में बदलाव दिखना शुरू हो गया है। इसी के चलते तापमान बढ़ने लगा है। होली के दिन जहां सबसे ज्यादा तापमान दर्ज किया गया वहीं मौसम वैज्ञानिक अब अप्रैल में तापमान के 40 डिग्री के पार जाने का अनुमान जता रहे हैं।

यह भी पढ़ें: सरकारी याेजना की धनराशि हड़पने के लिए गर्भवती हुए बगैर ही करा दिया प्रसव

मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार मार्च के आखिरी दिनों से ही गर्मी ने रिकार्ड तोड़ना शुरू कर दिया है। ऐसे में अप्रैल, मई और जून में पिछले कई वर्षों की अपेक्षा तेज गर्मी पड़ने की आशंका है। पिछले सप्ताह धूल भरी तेज रफ्तार हवाओं एनसीआर समेत वेस्ट यूपी के हिस्सों में लाेगाें काे हलकान कर दिया था। पछुआ हवा के झोंकों के कारण लोगों का दुपहिया वाहन चलाना मुश्किल हो गए था।

यह भी पढ़ें: पुलिस पर हमला, महिला कांस्टेबल समेत चार पुलिसकर्मी घायल, दबिश देने गई थी टीम

सरदार वल्लभ भाई पटेल कृषि विश्वविद्यालय के कृषि मौसम वैज्ञानिक डॉक्टर एन सुभाष ने बताया कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश में कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। शनिवार को अधिकतम तापमान 34:6 डिग्री रहा जो कि समान्य से एक डिग्री अधिक था। न्यूनतम तापमान 15 था जो कि सामान्य से 3 डिग्री कम था। अब 7 और 8 अप्रैल को कुछ क्षेत्रों में बारिश की संभावना है। उन्हाेंने यह भी आशंका जताई है कि न्यूनतम तापमान दो-तीन दिन में 20 से ऊपर जाएगा।

बढ़ता तापमान स्वास्थ्य के लिए घातक
स्वास्थ्य विभाग के अनुसार बढ़ता तापमान स्वास्थ्य के लिए काफी घातक सिद्ध हो सकता है। इससे मौसमी बीमारियों के पैर पसारने का खतरा बना रहता है। डॉक्टर तुंगवीर सिंह आर्य के अनुसार अभी वैसे ही कोरोना संक्रमण का खतरा टला नहीं है ऐसे में बदलते मौसम के तेवर को देखते हुए मौसमी बीमारियों से भी लोगों को खुद का बचाव करना होगा।