नोएडा में कहर बरपा रहा कोरोना: एक दिन में मिले सर्वाधिक 700 नए केस, कुल संक्रमितों का आंकड़ा 30 हजार के पार

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
नोएडा.
गौतमबुद्ध नगर में एक बार फिर कोरोना कहर बरपा रहा है। नए कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। स्वास्थ्य विभाग नेजिले में बीते 24 घंटे में 700 नएकोरोना संक्रमित मरीजों की पुष्टि की है। एक दिन में मिले यह अब तक सबसे अधिक मरीज हैं। वहीं, तीन महिलाओं की इलाज के दौरान मौत हो गई। संक्रमण से मरने वाले लोगों की संख्या अब 103 हो गई है। अप्रैल महीने के 18 दिनों में कोरोना वायरस जांच में 4827 लोग कोरोना पॉज़िटिव पाए गए हैं, जिनमें से 2928 मरीजों का इलाज जिले के कोविड अस्पतालो में चल रहा है। जबकि इन 18 दिन में 12 लोग काल के गाल में समां चुके हैं।

यह भी पढ़ें- यूपी में कोरोना वायरस से 129 और लखनऊ में 22 लोगों की मौत

प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी आंकड़े के अनुसार, जिले में सक्रिय मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। अब 3327 मरीजों का इलाज कोविड अस्पताल और होम आइसोलेशन में चल रहा है। बता दें कि जिले में अब तक कुल 30350 लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है, जबकि 27100 ठीक हो चुके हैं। इलाज के दौरान 39 साल के एक व्यक्ति की भी मौत हो गई, जिसे 8 अप्रैल को भर्ती कराया गया था। वह हृदय रोग से भी पीड़ित था। वहीं 63 और 68 वर्षीय बुजुर्ग की भी मौत इलाज के दौरान हुई है। इस बार अप्रैल के 18 दिन में 12 मौतें हो चुकी हैं। जबकि पिछले साल जुलाई में सर्वाधिक 20 मौतें हुई थीं।

आईसीयू बेड और वेंटिलेटर की कमी

जिले में सक्रिय मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। सक्रिय मरीजों की संख्या 3000 पार करने के बाद मरीजों को भर्ती होने में परेशानी आ रही है। खासकर आईसीयू बेड और वेंटिलेटर की कमी आ रही है। सीएमओ डॉ. दीपक ओहरी ने बताया कि कोरोना के संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ते देख जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने विभिन्न अस्पतालों को कोविड इलाज के लिए बेड संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं।

1480 बेड बढ़ाने का फैसला

कोरोना के संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ते देख जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने 1480 और बेड बढ़ाने का निर्णय लिया है। इससे पहले 2790 बेड पर मरीजों की इलाज की सुविधा है। कोविड मरीजों के इलाज के लिए नए बेड शुरू होने के बाद बेड की संख्या 4270 हो जाएगी। हालांकि स्वास्थ्य विभाग और जिला प्रशासन को अस्पतालों में बेड न मिलने की लगातार शिकायतें मिल रही हैं।

यह भी पढ़ें- रैपिड एंटीजन टेस्ट (RAT) निगेटिव, पर लक्षण दिख रहे हों तो कराएं आरटी-पीसीआर (RT-PCR) टेस्ट