बड़ी खबर : भारतीय रेलवे ने बढ़ते हुए कोरोना के कहर को देखते हुए यात्रियों के लिए बनाई नई योजना…

हम सभी इस बात से अवगत हैं कि देश में कोरोना महामारी अपनी चरम सीमा पर पहुंच गई है. देश में कोरोना महामारी के आकड़ें जिस तरह से बढ़ रहें हैं वह काफी डराने वाले हैं और कोरोना के इस बढ़ते हुए कहर को रोकने के लिए देश के कई राज्यों ने लॉकडाउन लगा दिये हैं और आप को बता दें कि लॉकडाउन की आशंका से कामगारों में हड़कंप सा मचा हुआ है. इसका कारण ये है कि पिछले साल कोरोना की समस्या के समय लोगों को बहुत परेशानी हुई थी. उसी परेशानी का डर आज भी लोगों के मन में बना हुआ है.

लगाये गये लॉकडाउन की डर से भारी संख्या में लोग तेजी से अपने घर वापसी के लिए लौट रहें हैं. प्रवासियों को लगने लगा है कि अगर फस गये तो सड़क पर आ जायेंगे. इसलिए वो एक बार फिर अपना सामान लेकर शहर से अपने गाँव की ओंर बढ़ने लगे हैं. भारी संख्या में प्रवासी मजदूरों के घर वापसी को देखते हुए रेलवे ने आने वाले दो महीनों के लिए विशेष योजना तैयार की है.

प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुँचाने के लिए अप्रैल और मई महीने के लिए रेलवे ने 330 और ट्रेन चलाने का फैसला किया है जो 674 के अतिरिक्त ट्रिप लेगी. जिन रूट्स पर ज्यादा मांग है वहां रेलवे के मुताबिक सर्विस बढ़ाई जाएगी. आप को बता दें कि इंडियन रेलवे की तरफ से इस समय 1514 स्पेशल ट्रेन चलाये जा रहें हैं. इसके अलावा 5387 सब-अर्बन ट्रेन भी चलाये जा रहें हैं. रेलवे की ओर से 984 पैसेंनजर ट्रेन और 28 स्पेशल ट्रेन क्लोन ट्रेन के रूप में चलाई जा रही है. रेलवे की ओर से जिन 330 ट्रेनों का ऐलान किया गया है उनमें से सेंट्रल रेलवे की ओर से 143 ट्रेन चलाई जायेंगी जो 377 ट्रिप लेंगी. नॉर्दर्न रेलवे की 27 ट्रेन चलाई जायेंगी जो 27 ट्रिप लेंगी. ईस्टर्न रेलवे की दो ट्रेने चलेंगी जो चार ट्रिप लेंगी. नॉर्थ ईस्टर्न की ओर से 9 ट्रेन कुल 14 ट्रिप लेंगी. नॉर्थ सेंट्रल रेलवे 1 ट्रेन चलाएगा 10 ट्रिप लेगी. साउथ वेस्टर्न रेलवे 3 ट्रेन चलायेगा जो कुल 30 ट्रिप लेगा.