मद्रास हाईकोर्ट ने चुनाव आयोग को लगाई फटकार, कहा कि कोरोना के तेजी से बढ़ते हुए कहर का जिम्मेदार चुनाव आयोग है

पुरे देश में कोरोना महामारी की वजह से मातम सा छाया हुआ है. कोरोना के कारण सबकुछ थम सा गया है. कोरोना वायरस ने सबकुछ तबाह करके रख दिया है. देश में कोरोना ने कोहराम मचा के रखा है. हर किसी के मन में इसके प्रति डर बना हुआ है. कोरोना के बढ़ते हुए मामले को देखते हुए आज यानि सोमवार को मद्रास के हाईकोर्ट में सुनवाई हुई है.

कोरोना के दूसरी लहर का तेजी से बढ़ने का जिम्मेदार हाईकोर्ट ने चुनाव आयोग को ठहराया है. हाईकोर्ट ने स्पष्ट रूप से कहा है कि जिस तरह से कोरोना का कहर बढ़ रहा है उसका जिम्मेदार और कोई नहीं सिर्फ चुनाव आयोग है. हाईकोर्ट ने कहा चुनाव आयोग ने इस भयावह कोरोना को समय रहते देखते हुए चुनावी रैलियों को नहीं रोका था. जिसके कारण आज कोरोना की स्थिति अपने चरम सीमा पर पहुंच गई है.

आपको बता दें कि मद्रास के मुख्य जस्टिस एस. बनर्जी ने सुनवाई के समय कहा कि चुनाव आयोग ही कोरोना के दूसरी लहर का जिम्मेदार है. कोर्ट ने साफ तौर पर कहा कि चुनाव आयोग के अधिकारीयों के ऊपर अगर मर्डर चार्ज भी लगाया जाये तो भी गलत नहीं होगा. आदालत में चुनाव आयोग के द्वारा दिए गये जवाब में कहा गया कि कोरोना गाइडलाइन का पूर्ण रूप से पालन किया जा रहा था उन्होंने अपने जवाब में आगे कहा कि वोटिंग के दिन भी नियमों का पालन किया गया था. चुनाव आयोग के इस बात का जवाब देते हुए हाईकोर्ट ने कहा कि जब लोग भारी संख्या में चुनाव का प्रचार कर रहे थे तब आप कहां थे. चुनाव आयोग उस समय दूसरी ग्रह पर तो नहीं था.

अदालत ने चुनाव आयोग को चेतावनी भी दी है. अदालत ने अपने चेतावनी में कहा है कि आने वाले 2 मई को कोरोना से जुड़ी सभी गाइडलाइन का सही तरह से पालन नहीं किया गया और अगर इसकी ब्लूप्रिंट नहीं तैयार किया गया तो मतगणना पर पूरी तरह से रोक लगा दिया जायेगा. अदालत ने सुनवाई के समय कहा कि हमारे जीवन में स्वास्थ्य बहुत ही महत्वपूर्ण है. लेकिन बहुत ही बड़ी चिंता की बात ये है कि ये बात अदालत को बतानी पड़ रही है. इस समय कोरोना महामारी के कारण जिन्दगी का सफर संघर्षों के साथ तय करना पड़ रहा है. आपको बता दें कि हाईकोर्ट ने चुनाव आयोग को सख्त निर्देश दियें हैं कि वह हेल्थ सेक्रेटरी के साथ मिलकर योजना बनाए. हाईकोर्ट ने 30 अप्रैल को पूरी योजना का रिपोर्ट माँगा है और कोरोना को ध्यान में रखते हुए मतगणना के दिन की तैयारी करने को कहा है.