चारों तरफ से घेरकर पकड़ी एंबुलेंस, जैसे ही खुला दरवाजा, देखकर सन्न रह गए पुलिस अधिकारी

बाराबंकी. शराब माफियाओं ने अब तस्करी का एकदम नया तरीका खोज लिया है। शराब माफिया अब पुलिस से बचने के लिए एम्बुलेंस का सहारा ले रहे हैं। बाराबंकी जिले में भी एक ऐसा ही मामला सामने आया है। जहां चारों तरफ से घेरकर पुलिस ने एक एंबुलेंस को पकड़ा और जब दरवाजा खोला तो अंदर का नजारा देखकर पुलिस अधिकारी सन्न रह गए। दरअसल एंबुलेंस में मरीजों की जगह विदेशी शराब की अवैध तस्करी की जा रही थी। बाराबंकी पुलिस ने घेराबंदी कर 5 लाख कीमत की अवैध शराब और ऐंबुलेंस को कब्जे में लिया है।

 

एंबुलेंस में मिली लाखों की शराब

बाराबंकी की जैदपुर पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर लखनऊ-अयोध्या नेशनल हाइवे पर अहमदपुर टोल प्लाजा के पस चेकिंग लगा कर एक एम्बुलेंस की जांच की, तो उसमें मरीज की जगह एक बड़े बक्से के अलग-अलग डिब्बों में 1804 अंग्रेजी ब्रांड की अवैध शराब की बोतलें पाई गईं। पुलिस की जांच में इस एम्बुलेंस का वास्तविक नम्बर HR55G 7064 पता चला, जो हरियाणा का था। फिलहाल पुलिस की चेकिंग के दौरान ऐंबुलेंस में बैठे लोग और आरोपी ड्राइवर मौके से फरार हो गए और ऐंबुलेंस को कब्जे में लेकर पुलिस ने उसके मालिक और शराब के धंधे में अवैध रूप से लिप्त तस्करों की तलाश शुरू कर दी है। जानकरी के मुताबिक पंचायत चुनाव में शराब माफियाओं ने गुपचुप तरीके से शराब खपाने के लिए तस्करी तेज कर दी है। इसको लेकर पुलिस जल्द बड़ा खुलासा भी करने वाली है।

 

आरोपियों की तलाश में जुटी पुलिस

बाराबंकी के एसपी यमुना प्रसाद ने बताया कि घेराबंदी के बाद जैदपुर पुलिस को एक ऐंबुलेंस बरामद हुई, जिसमें चेक किया गया तो मरीजों की जगह भारी मात्रा में अंग्रेजी शराब पाई गई। यह शराब हरियाणा से अवैध तरीके से तस्करी कर ले जाई जा रही थी, जिसकी कीमत लगभग 5 लाख रुपये है। इसके बाद जब नम्बर प्लेट चेक की गई, तो वह UP-35 AT 5855 उन्नाव जिले की थी और फर्जी नम्बर प्लेट थी। बाद में पुलिस जांच में इस एम्बुलेंस का वास्तविक नम्बर HR55G 7064 पता चला, जो हरियाणा का था। इस दौरान ऐंबुलेंस में बैठे लोग और आरोपी ड्राइवर मौके से फरार हो गए। पुलिस सभी की तलाश में लगी है।