भारत की मदद से इनकार करने वाले अमेरिका को उसी के नेताओं ने आड़े हाथ लिया, कहा हमारे पास पार्यप्त संसाधन, फिर मदद से इनकार क्यों?

जाहिर है इस समय भारत कोरोना की दोहरी मार झेल रहा है. हालात पिछले साल के मुताबिक इस साल ज्यादा ख़राब हो गए है अस्पतालों में स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा गयी है. जिस वजह से कई ऑक्सीजन की कमी है तो कही ICU बेड्स की. ऐसे में दिन पर दिन कोरोना के नए मामले भी सामने आ रहे है जिससे देश में तनाव काफी बढ़ता जा रहा है. वही इन सब हालातों के बीच भारत की मदद से इनकार करने वाले अमेरिका को उसी के नेताओं ने आड़े हाथ लिया है.

अमेरिका के मैसाचुसेट्स से डेमोक्रेटिक पार्टी के सीनेटर एड मार्के ने बाइडेन सरकार से भारत की तुरंत मदद करने का आग्रह किया है. उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि “भारत में कोरोना संक्रमण के दैनिक मामलों में रिकॉर्ड बढ़ोत्तरी हो रही है. उन्होंने पृथ्वी दिवस का उल्लेख करते हुए कहा कि पृथ्वी दिवस हमारे ग्रह ही नहीं इस पर रहने वाले सभी लोगों के स्वास्थ्य से जुड़ा हुआ है.”

वही दूसरी ओर भारत में बढ़ते मामलों को देखते हुए मिशिगन से डेमोक्रेटिक पार्टी की यूएस कांग्रेस प्रतिनिधि हेली स्टीवंस ने भी ट्वीट कर लिखा कि “भारत में विनाशकारी कोरोना की लहर के दौरान मेरी संवेदना वहां के लोगों के साथ है.” जानकारी के लिए बता दें कि कोरोना वैक्सीन के लिए जरूरी कच्चे माल की आपूर्ति पर लगी रोक हटाने के सवाल पर अमेरिका ने कहा था कि यूएस भारत की जरूरतों को समझता है. लेकिन फिलहाल हमारे हाथ बंधे हुए हैं. जिस पर अब बाइडेन सरकार के नेताओं ने ही उन्ही आड़े हाथ लिया है साथ ही कई सवाल भी खड़े कर दिए है. पता हो कि भारत में 1 मई से बड़े पैमाने पर भारत सरकार टीकाकरण अभियान को तेज़ करने जा रही है ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगो को वैक्सीन लगायी जा सके. जिसके उत्पादन के लिए भारत को बड़े पैमाने ओअर कच्चे माल की आवश्यकता है.