कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए नेशनल लॉकडाउन पर गृहमंत्री अमित शाह ने कही ये बड़ी बात

देश में दिन प्रतिदिन कोरोना अपना पैर फैलाता जा रहा है. कोरोना वायरस ने देश में एक बार फिर बिकराल रूप धारण कर लिया है. कोरोना वायरस की पहली लहर से अभी अभी सब लोग संभलने का प्रयास कर रहे थे कि तभी कोरोना की दूसरी लहर ने एक बार फिर लोगों को अपनी गिरफ्त में लेना शुरू कर दिया है. ऐसा माना जा रहा है कि कोरोना कि दूसरी लहर पहली लहर से ज्यादा खतरनाक है और तेजि से बढ़ते हुए कोरोना की डर से कई राज्यों ने सख्ती बढ़ा दी है देश के कई राज्यों में तो मिनी लॉकडाउन और नाईट कर्फ्यू भी लगाई गई हैं.

देश में कोरोना वायरस की वजह से जिस तरह से कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ रही है उसपर एक बार फिर नेशनल लॉकडाउन लगाने की स्थिति बनता हुआ दिखाई दे रहा है. आपको बता दें कि केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने इस बात को लेकर कहा है कि केन्द्र ने पाबंदियों को लेकर फैसला लेने की छुट अब राज्यों के हाथ में दे दी है. उन्होंने आगे कहा है कि राज्य सरकारें अपने हिसाब से निर्णय ले रहीं हैं.

गृहमंत्री अमित शाह ने एक इंटरव्यू में बताया कि पिछले तीन महीने से हमने पाबंदियां लगाने का अधिकार राज्यों को दे दियें हैं. ऐसा इसलिए किया गया है कि हर राज्य की स्थिति एक जैसी नही है. ऐसे में राज्य सरकार को अपनी राज्य को देखते हुए फैसला लेने का अधिकार है. केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने बताया कि कुंभ के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद संतो से बात की और कुंभ को प्रतीकात्मक करने की बात कही है और ऐसा करने से 13 अखाड़े में से 12 अखाड़े ने अपनी तरफ से कुंभ समाप्त करने का घोषणा कर दिया है. गृहमंत्री अमित शाह ने आगे कहा कि जिन राज्यों में विदेश से आने वाले लोगों की संख्या अधिक है वहां पर कोरोना के मरीजों की संख्या भी तेजी से बढ़ रही है.