मंत्री औलख को काले झंडे दिखाकर किसानों ने सुनाई खरी-खरी, पुलिस ने लाठी फटकारते हुए खदेड़ा

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
रामपुर. कृषि कानूनों के खिलाफ जहां दिल्ली के बॉर्डर पर किसान डटे हुए हैं, वहीं अब किसानों भाजपाइयों को विरोध कर कानूनों की वापसी की मांग कर रहे हैं। इसी कड़ी में योगी सरकार के जलशक्ति मंत्री बलदेव सिंह औलख को किसानों ने काले झंडे दिखाकर जमकर विरोध प्रदर्शन किया है। इस दौरान पुलिस के रोकने के बावजूद किसान नहीं मानें और भाजपा के खिलाफ नारेबाजी भी की। इसको लेकर पुलिस अधिकारियों और किसानों के बीच तीखी नोक-झाेक भी हुई। इसके बाद पुलिस ने सख्त रूख अपनाते हुए लाठी फटकारते हुए किसानों की भीड़ को सड़क पर खूब दौड़ाया। कई किसान पुलिस के सामने हाथ जोड़ते नजर आए।

यह भी पढ़ें- भाजपा, बसपा, कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता हुए सपा में शामिल, देखें पूरी लिस्ट

दरअसल, जलशक्ति मंत्री बलदेव सिंह औलख ने अपने फेसबुक पेज पर मिलक खानम कस्बा थाना इलाके के गांव में जाकर पार्टी के उम्मीदवार को जिताने के लिए रैली करने की बात कही थी। ओलख ने लिखा कि वहां मतदाताओं से अपने प्रत्याशी को वोट देने की करूंगा। आप लोग ज्यादा से ज्यादा वहां पहुंचे। इसी पोस्ट को पढ़कर किसान ने तुरंत वहां पहुंचकर विरोध करने का मन बना लिया। वहीं मंत्री के कार्यक्रम की जानकारी मिलते ही थाना इंचार्ज मिलक खानम समेत सीओ और एसडीएम भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए। इधर, कुछ किसान जुटना शुरू हो गए। देखते ही देखते किसानों की संख्या बढ़ गई। जैसे ही मंत्री बलदेव सिंह औलख का काफिला कस्बा माटखेड़ा पहुंचा तो वहां पर इक्कठे हुए किसानों ने काले झंडे दिखाए। किसानों ने भारतीय जनता पार्टी मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए मंत्री बलदेव सिंह ओलख को जमकर खरी-खोटी सुनाई। इस पर पुलिस वालों ने लाठी फटकारते हुए किसानों को दौड़ाया।

बता दें कि सरदार गुरुवीर सिंह विक्कर अपने इलाके के किसानों के साथ गाजीपुर बॉडर पर धरने में शामिल होते रहे हैं। वह कृषि कानूनों के विरोध में लगातार धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं। उनका कहना है कि लंबे समय से कृषि कानूनों को किसान वापस लेने की मांग कर रहे हैं, लेकिन सरकार सुनने को तैयार नहीं है। इसी वजह से अब उन्होंने विरोध का यह रास्ता अपनाया है। बता दें कि सीएम योगी के मंत्री बलदेव सिंह औलख के विरोध के दौरान करीब ढाई सौ किसान सड़क पर थे। उन्होंने जमकर उग्र प्रदर्शन भी किया। हालांकि पुलिस ने समय रहते किसानों को खदेड़ दिया।

यह भी पढ़ें- रोचक हुआ यूपी पंचायत चुनाव, रसगुल्ला...जलेबी तो कहीं समोसे से हो रही ग्रामीणों की सुबह-शाम गुलजार