अस्पतालों में ऑक्सीजन की किल्लत, यहां औद्योगिक फायदे में हो रहा था जमकर इस्तेमाल, अब लगेगी रासुका

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
कानपुर. एक तरफ अस्पतालों में ऑक्सीजन की किल्लत (Oxygen Crisis) चरम पर है, इससे प्रशासन से लेकर शासन प्रयासरत हैं। ताकि अस्पतालों में ऑक्सीजन का बैकअप (Oxygen Crisis In Hospital) उपलब्ध रह सके। वहीं कानपुर में स्थित कंपनियां ऑक्सीजन का इस्तेमाल उद्योगिक उद्देश्य से कर रही हैं। यहां तक कि कोरोना मरीजों (Corona Patients) के लिए ऑक्सीजन उपलब्ध कराने को खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन आयुक्त भी गंभीर हैं, जिन्होंने ऑक्सीजन उपलब्ध कराने के आदेश दिए थे, लेकिन कंपनियां उनके आदेशों का भी पालन नहीं कर रही हैं। वहीं सोमवार शाम चेकिंग पुलिस प्रशासन ने चेकिंग की तो पनकी की फैक्ट्री में टीम ने करीब 40 सिलिंडर पकड़े। डीएम ने मुकदमा दर्ज कर आरोपितों के खिलाफ रासुका (NSA) भी लगाने के लिए कहा है।

डीसीपी पश्चिम संजीव त्यागी ने बताया कि कुछ फैक्ट्रियों में ऑक्सीजन का औद्योगिक इस्तेमाल होने की सूचना मिली थी। डीएम के निर्देश पर एडीएम सिटी अतुल कुमार व फोर्स के साथ पनकी इंडस्ट्रियल एरिया में कई फैक्ट्रियों में चेकिंग की। यहां जांच के दौरान वेद सेसो मैकेनिका प्राइवेट लिमिटेड में ऑक्सीजन का औद्योगिक उद्देश्य के लिए उपयोग होता पाया गया। ऑक्सीजन के सिलिंडर जब्त कर वैधानिक कार्रवाई कराई जा रही है। एक अन्य स्थान पर ऑक्सीजन के सिलिंडर तो मिले, लेकिन वह खाली थे।

कानपुर जिलाधिकारी आलोक तिवारी ने बताया कि कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए इस समय अस्पतालों में ऑक्सीजन की सप्लाई निर्बाध रूप से कराना शासन का उद्देश्य है। इसके चलते आयुक्त खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन ने औद्योगिक इकाइयों में ऑक्सीजन के औद्योगिक इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगाया था। इसके बावजूद वेद सेसो मैकेनिका कंपनी में ऑक्सीजन का औद्योगिक इस्तेमाल होता मिला। ऑक्सीजन सप्लाई देने और लेने वाले आरोपितों के खिलाफ कई धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया जा रहा है। दोषियों को गिरफ्तार कराया जाएगा। उनके खिलाफ रासुका व गैंगस्टर एक्ट में भी कार्रवाई कराई जाएगी।