उत्तर प्रदेश में राज्य सरकार ने बढ़ते हुए कोरोना के कहर को रोकने के लिए लगाये नए प्रतिबंध

देश में कोरोना का संक्रमण बहुत ही तेजी से बढ़ रहा है और उत्तर प्रदेश में इसी कोरोना के कहर को काबू करने के लिए लगातार राज्य सरकार सख्ती बढ़ाती जा रही है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रात के कर्फ्यू के साथ ही दो दिन की साप्ताहिक बंदी को बढ़ाकर अब शुक्रवार रात आठ बजे से मंगलवार सुबह सात बजे तक यानि तीन दिन की साप्ताहिक बंदी का निर्देश दिए हैं और अब जानकारी मिला है कि उत्तरप्रदेश के सभी कंटेनमेंट जोन में कम से कम 14 दिन के लिए सभी प्रकार के राजनैतिक, सामाजिक, खेल, मनोरंजन, शैक्षणिक, सांस्कृतिक और धार्मिक प्रतिबन्ध लगा दिया गया है.

उत्तरप्रदेश के मुख्य सचिव आरके तिवारी की ओर से जारी दिशा- निर्देशों में कहा गया है कि ऐसे स्थान जहाँ एक समूह के रूप में कोरोना संक्रमित रोगी पाए जाते हैं और जहाँ व्यक्तिगत या पारिवारिक रूप से उनकी मदद नहीं की जा सकती है, ऐसे मामलों में एक निश्चित सीमा और कड़े नियंत्रण को ध्यान में रखते हुए कंटेनमेंट जोन बनाया जाये. मुख्य सचिव आरके तिवारी ने कहा कि शादियों में 50 से ज्यादा मेहमानों को आने की अनुमति नहीं दी जायेगी और अंतिम संस्कार में 20 से ज्यादा लोग एकत्रित नहीं हो सकते हैं. आगे आदेश में पूरी सख्ती के साथ कहा गया है कि कंटेनमेंट जोन के सभी सिनेमा हॉल,शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, बार, रेस्तरां, स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स, जिम, स्पा, स्विमिंग पूल और इसी के साथ धार्मिक स्थल भी बंद रहेंगें.

उत्तरप्रदेश में बेकाबू हो रहे कोरोना के कहर का चेन तोड़ने के लिए राज्य सरकार फिलहाल अन्य राज्यों की तरह सम्पूर्ण लॉकडाउन तो नही लगाना चाह रही है. लेकिन मुख्य सचिव द्वारा जारी किये गये निर्देश से पता चल रहा है कि धीरे – धीरे कदम लॉकडाउन की ओर ही बढ़ रहें हैं. आपको बता दें कि मुख्य सचिव के आदेश के अनुसार सार्वजनिक परिवहन जैसे मेट्रो, रेलवे, बसें, कैब अपनी अधिकतम 50 फीसदी क्षमता के साथ चलाई जायेंगी. लेकिन इसी के साथ अंतरराज्यीय और अन्तः राज्यीय संचालन पर किसी भी प्रकार का कोई प्रतिबन्ध नहीं होगा. सभी सरकारी और निजी कार्यालय अधिकतम 50 फीसदी कर्मचारियों के साथ काम करेंगें.