कोरोना से जंग के बीच ब्रिटेन से भारत पहुंची मदद की पहली खेप

एक तरफ देश में कोरोना का कहर और दूसरी तरफ ऑक्सीजन की किल्लत से स्थिति ख़राब हो रही है. हालात ये हो गए ही कि कई जगहों पर अस्पतालों में मरीजो को भर्ती नहीं करा जा रहा है. जिस वजह से हालातों को देखते हुए केंद्र सरकार लगातार सख्त कदम उठा रही है और देश में ऑक्सीजन के संकट को कम करने के लिए युद्ध स्तर पर काम किया जा रहा है. इतना ही नहीं पीएम नरेंद्र मोदी, केंद्र सरकार, राज्य सरकारें, स्वास्थ्य मंत्रालय, रेलवे विभाग, सेना, एयरफोर्स, पुलिस विभाग दिन रात लोगों की सांसे बचाने के लिए काम कर रहे हैं. ताकि लोगो को बचाया जा सके और ऑक्सीजन की कमी न हो पाए. वही भारत में बिगड़ते हालातों को देखते हुए दुनियाभर से मदद के हाथ बढ़ाये जा रहे है.

वही कोरोना की दूसरी लहर से निपटने के लिए ब्रिटेन से आयी वेंटिलेटर और ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की पहली खेप आज भारत पहुंच गयी है. इसे कल यानी सोमवार को रवाना किया गया था. जानकारी के लिए बता दें कि इसमें 495 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर, 120 नॉन-इंवेजिव वेंटिलेटर और 20 मैनुअल वेंटिलेटर शामिल हैं. इसके अलावा बता दें कि एफसीडीओ ने घोषणा की थी कि भारत सरकार के साथ चर्चा के बाद कोविड-19 के खिलाफ भारत की लड़ाई में सहयोग करने के लिए 600 से अधिक महत्वपूर्ण चिकित्सकीय उपकरण भारत भेजे जाएंगे.

इसके अलावा ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा कि ‘‘इस खतरनाक वायरस से जीवन को बचाने के लिए सैकड़ों ऑक्सीजन कंसंट्रेटर और वेंटिलेटर सहित ‘‘महत्वपूर्ण चिकित्सकीय उपकरण अब ब्रिटेन भारत पहुंचने के रास्ते में हैं. ब्रिटेन भारत के साथ एक ‘‘मित्र और साथी’’ के रूप में इस कठिन समय में खड़ा है.’’ जाहिर है कि इस समय भारत काफी कठिन दौर से गुजर रहा है. कोरोना की वजह से स्थिति काफी ज्यादा ख़राब हो गयी है उन्ही हालातों को देखते हुए अब दुनियाभर से भारत के लिए मदद पहुंचाई जा रही है.