वाराणसी में प्रधानमंत्री के संसदीय कार्यालय में शुरू हुआ कोविड कंट्रोल रूम, इन नंबर रों पर करें फोन

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

वाराणसी. जबरदस्त कोरोना संक्रमण से जूझ रहे बनारस की जनता को राहत के लिये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय कार्यालय में कोविड कंट्रोल रूम (Covid Control Room Start in PM Office Varanasi) बनाया गया है। यहां पदाधिकारियों की 24 घंटे ड्यूटी लगा दी गई है, जो जरूरत पड़ने पर हर संभव सहायता करेंगे। इसके अलावा कंट्रोल रूम में मदद के लिये डाॅक्टरों की एक टीम भी तैनात की गई है जो संक्रमित मरीजों को लक्षण के आधार पर दवा और इलाज के लिये सलाह देगी। ये कोविड कंट्रोल रूम शिफ्ट वाइज काम करेगा।


यूपी बीजेपी प्रभारी सुनील ओझा ने 'कंट्रोल रूम फाॅर कोविड’ (Controll Room for Covi) को लेकर बताया है कि कंट्रोल रूम में बस एक काॅल पर मदद उपलब्ध होगी। कोविड मरीजों और तीमारदारों को त्वरित चिकित्सा सुविधाएं मिलेंगी। ऑक्सीजन, वेंटिलेटर, असप्ताल में बेड की उपलब्धता, दवाई या फिर डाॅक्टर की सलाह आदि के लिये 24 घंटे में किसी भी समय हेल्प्लाइन नंबर 0542-2314000 और मोबाइल नंबर 9415914000 पर काॅल किया जा सकता है। कंट्रोल रूम में कोरोना संक्रमितों को लक्षण के आधार पर दवा और उपचार के लिये निशुल्क सलाह देने के लिये डाॅक्टरों की एक टीम मौजूद है।


भाजपा महानगर अध्यक्ष विद्यासागर राय ने मीडिया से बताया है कि कंट्रोल रूम में भजपा पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं की चार टीमें और अनुभवी डाॅक्टरों की टीम कंट्रोल रूप में शिफ्टवाइज काम करेंगी। कंट्रोल रूम की शुरुआत सोमवार से हो जाएगी। पहली शिफ्ट सुबह 8 से 12 बजे तक होगी, जिसमें अमित जायसवाल, मदन दुबे, आलोक दवे, दूसरी शिफ्ट में दोपहर 12 से शाम 4 बजे तक एडवोकेट अशोक कुमार, विपिन कुमार सिंह रिंकू भारती और रवि प्रजापति रहेंगे। तीसरी शिफ्ट शाम 4 से रात 8 बजे तक होगी जिसमें गोकुल शर्मा, शैलेंद्र कुमार मिश्रा, राकेश जायसवाल और जयंत शर्मा होंगे। चौथी शिफ्ट में रात आठ से सुबह आठ बजे तक रामेश्वर प्रसाद श्रीवास्तव और मिथिलेश गुप्ता कंट्रोल रूम में उपलब्ध होंगे।

 


बताते चलें कि अपने संसदीय क्षेत्र में कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए रविवार को पीएम नरेन्द्र मोदी ने भी जिला प्रशासन और प्रशासनिक अधिकारियों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये बात की थी। बैठक के दौरान उन्होंने कोविड-19 संक्रमितों के इलाज के लिए दवाइयों, टेस्टिंग, बेड की उपलब्धता और वैक्सीन समेत सभी महत्वपूर्ण जानकारियों लीं और लोगों की हर संभव मदद का निर्देश दिया।