दिल्ली हाईकोर्ट में ऑक्सीजन की कमी को लेकर गरमाया मुद्दा, कोर्ट ने सख्त लहजे में केंद्र से कही ये बात

लगातार ऑक्सीजन की किल्लत को लेकर हालात ख़राब होते जा रहे है. जहाँ एक तरफ देश में कोरोना अपना कहर बरसा रहा है वहां ऑक्सीजन की कमी को लेकर स्थिति काफी भयंकर हो गयी है और ऐसे हालातों में केंद्र सरकार एक के बाद एक बड़े कदम उठा रही है. हालाँकि ऑक्सीजन की कमी को लेकर गमकर राजनीति भी की जा रही है.

जिसके बाद अब ये मसला हाईकोर्ट तक पहुँच गया है. जानकारी के लिए बता दें कि महाराजा अग्रसेन अस्पताल ने दिल्ली HC से ऑक्सीजन की तत्काल आपूर्ति की मांग की है. अस्पताल का कहना है कि हम 306 रोगियों के साथ दो अस्पताल चला रहे है और कल रात ही हमारे यहां ऑक्सीजन लगभग खत्म हो चुकी थी और इसी वजह से अब हम मरीजो को डिस्चार्ज कर रहे है.

जिस पर अब हाईकोर्ट ने सख्त रुख अपनाया है और मामले की सुनवाई करते हुए केंद्र से इस संबंध में पूरा ब्योरा मांगा है. साथ ही दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार से कहा है कि दिल्ली सरकार को खुद का ऑक्सीजन प्लांट स्थापित करने की जरुरत है. साथ ही कोर्ट ने ये भी कहा कि अगर कोई ऑक्सीजन की सप्लाई में रुकावट पैदा करेगा तो उसे बख्शा नहीं जायेगा. इसके साथ ही कोर्ट ने सख्त लहजे में कहा कि हम एक निश्चित तारीख चाहते है जब दिल्ली को 480 मीट्रिक टन ऑक्सीजन मिलना शुरू होगा. जाहिर है कि पिछले साल के मुकाबले इस साल देश में कोरोना से हालात काफी ख़राब हो चुके है लोगो को दिन पर दिन मौत हो रही है वही संक्रमण के आंकड़े भी लगातार बढ़ते जा रहे है.