कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मोदी सरकार की कोरोना वैक्सीन नीति पर उठाए सवाल, जानें क्या कहा

सोनिया गांधी, फ़ोटो फ़ाइल

सोनिया गांधी, फ़ोटो फ़ाइल

भारत में कोरोना वायरस का कहर जारी है। देश में बढ़ते कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए केंद्र एवं राज्य सरकारों के द्वारा जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं। वहीं कोरोना वायरस को मात देने के लिए देश में वैक्सीनेशन का कार्य बहुत तेजी के साथ किया जा रहा है। इसी बीच कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मोदी सरकार की कोरोना वैक्सीन रणनीति पर सवाए उठाए हैं। कांग्रेस नेता सोनिया गांधी ने पीएम नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, सोनिया गांधी ने पत्र में लिखा है कि केंद्र सरकार ने पिछले साल (2020) के कोरोना हालात से सबक नहीं लिया है। 

साथ ही कांग्रेस नेता ने 18 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को फ्री वैक्सीन ना देने को लेकर भी सवाल उठाया है। सोनिया गांधी पत्र में कोरोना वैक्सीन की कीमत पर भी सवाल उठाए हैं। सोनिया गांधी का कहना है कि वैक्सीन को कीमत से राज्यों पर भार पड़ेगा। सोनिया गांधी ने टीकाकरण से जुड़ी नयी नीति को लेकर चिंता प्रकट करते हुए पीएम मोदी से आग्रह किया कि वह इस नीति को बदलें और पूरे देश में टीकों की एक समान कीमत सुनिश्चित करें।

साथ ही सोनिया ने आरोप लगाया कि केंद्र की मोदी सरकार ने 18 से 45 वर्ष के लोगों को मुफ्त टीका उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ लिया है। केंद्र सरकार लगातार मनमानी और भेदभावपूर्ण नीति पर अमल कर रही है। जनता को कोविड-19 टीके के लिए अधिक कीमत चुकानी होगी और राज्य सरकारों के खजाने पर भी बोझ पड़ेगा। सोनिया गांधी ने सवाल किया कि इस मुश्किल समय में कोई सरकार लोगों की पीड़ा से मुनाफाखोरी करने की खूली छूट कैसे दे सकती है? 


जानकारी के लिए आपको बता दें कि सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने 21 जनवरी को कहा कि कोरोना वैक्सीन की कीमत राज्य सरकारों के लिए 400 रुपये प्रति खुराक और निजी अस्पतालों के लिए 600 रुपये प्रति खुराक होगी।