पुलिस ने अवैध हथियारों का जखीरा किया बरामद, पंचायत चुनाव में अराजकता के लिए था तैयार

बाराबंकी. उत्तर प्रदेश में जबसे त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की तारीखों की घोषणा हुई है, तबसे ही दावेदार अपने क्षेत्र में लोगों के घरों की खाक छान रहे हैं और चुनाव जीतने के लिए पूरी तैयारी से जुटे हुए हैं। जहां प्रत्याशी जी जान से जुटे दिखाई देते हैं, वहीं चुनाव में गड़बड़ी और अराजकता के लिए अवैध शस्त्रों का निर्माण करने वाले लोग भी पूरी तैयारी से जुटे हुए हैं। आज पुलिस ने एक ऐसे ही सख्श को गिरफ्तार किया जो इस चुनाव में अराजकता के लिए अवैध शस्त्र तैयार कर रहा था। पुलिस ने इसके कब्जे से अवैध हथियारों का जखीरा बरामद कर अवैध शस्त्र फैक्ट्री का भांडाफोड़ कर दिया और आरोपी को जेल की सलाखों के पीछे भेज दिया है।

 

अवैध शस्त्र फैक्टी का भांडाफोड़

दरअसल बाराबंकी पुलिस को मुखबिर के द्वारा यह सूचना मिली थी कि जिले में व्यापक स्तर पर अवैध शस्त्र के निर्माण का कारखाना चलाया जा रहा है। जो पंचायत चुनाव में इस्तेमाल हो सकते हैं। मुखबिर की इस सूचना पर पुलिस सक्रिय हुई और थाना कुर्सी इलाके में स्थित पिलहटी के जंगल में चलाये जा रहे अवैध शस्त्रों के कारखाने का खुलासा कर दिया। पुलिस ने इस कारखाने को संचालित करने वाले थाना इटौंजा निवासी राम सेवक विश्वकर्मा को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने राम सेवक विश्वकर्मा के कब्जे से भारी मात्रा में निर्मित/अर्धनिर्मित शास्त्रों का जखीरा बरामद किया। राम सेवक विश्वकर्मा पर आधा दर्जन से अधिक मुकदमें पहले से पंजीकृत हैं और वह इस काम के लिए कई बार जेल भी जा चुका है।

 

पुलिस ने किया खुलासा

वहीं इस घटना का खुलासा करते हुए बाराबंकी के एसपी यमुना प्रसाद ने बताया कि पुलिस को मुखबिर के द्वारा अवैध शस्त्रों के निर्माण की सूचना मिली थी, जो पंचायत चुनाव या अन्य लूटकाण्ड में इस्तेमाल हो सकते हैं। पुलिस ने इस सूचना को और विकसित किया और थाना कुर्सी इलाके के पिलहटी के जंगल में लखनऊ जनपद के थाना इंटौजा निवासी राम सेवक विश्वकर्मा को गिरफ्तार कर उसके कब्जे से भारी मात्रा में निर्मित/अर्धनिर्मित अवैध बरामद कर लिया। राम सेवक विश्वकर्मा ने पूछताछ में बताया कि वह पंचायत चुनाव और दूसरी लूटपाट के लिए अवैध हथियारों को तैयार कर रहा था। इन हथियारों को वह चार से पांच हजार रुपये में बेंचता था। राम सेवक के विरुद्ध पहले से ही आधा दर्जन से अधिक मुकदमें पंजीकृत हैं। पुलिस उसे गिरफ्तार कर जेल भेज रही है।