महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कोरोना महामारी को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने का किया मांग

देश में कोरोना का रफ्तार बढ़ता ही जा रहा है. आज हर कोई इस कोरोना नामक महामारी से बुरी तरह से जूझ रहा है. कोरोना ने हर जगह अपना आतंक फैला कर के रखा है. लेकिन कोरोना से सबसे अधिक परेशान होने वाला राज्य महाराष्ट्र है. ऐसा माना जा रहा है कि कोरोना के दूसरी लहर की शरुआत देश की आर्थिक राजधानी कही जाने वाली मुंबई से शुरू हुई. फिर धीरे – धीरे इसमें महाराष्ट्र के कई बड़े शहरों को भी अपने चपेट में ले लिया. महाराष्ट्र में इस कोरोना महामारी के कारण एक समय ऐसा भी आया कि देश में रोजाना आने वाले कुल नए केसों में महाराष्ट्र की हिस्सेदारी करीब आधी फीसदी रहने लगी थी और कोरोना के इस भयावह रूप को देखते हुए ही महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने केन्द्र सरकार से कोरोना महामारी को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की मांग की है.

शिवसेना सांसद संजय राउत बताया कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मुख्यमंत्रीयों की बैठक के समय केन्द्र सरकार को पत्र लिखकर कोरोना महामारी के इस संकट को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने के लिए मांग की है. राज्यसभा सदस्य ने कहा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे एक महीने से यह मांग कर रहें हैं और उच्चतम न्यायालय ने भी इस बात पर ध्यान दिया है.

शिवसेना सांसद संजय राउत ने आज यानि गुरुवार को यहां पत्रकारों से हुई बातचीत में कहा कि कोरोना प्रबंधन के महाराष्ट्र मॉडल को पुरे देश में भी लागू करना चाहिए. हलाकि उन्होंने महाराष्ट्र मॉडल के बारे में कोई अधिक जानकारी नहीं दी. आपको बता दें कि कोरोना संक्रमण के बढ़ते हुए मामले को देखते हुए उच्चतम न्यायालय ने बीते मंगलवार को कोरोना महामारी को राष्ट्रीय संकट बताया था और उच्चतम न्यायालय ने ये भी कहा था कि कोरोना जैसी भयावह महामारी के समय में मै मूक दर्शक बनें नहीं रह सकता.