आईआईटी कानपुर अब अनसुलझे प्राकृतिक रहस्यों से उठाएगा पर्दा, देश का पहला सुपर-सुपर कंप्यूटर करेगा सम्भव

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
कानपुर. आईआईटी कानपुर (IIT Kanpur) वैसे भी नए शोध (IIT Research) करने में अग्रसर रही है। लोगों की जिज्ञासा को परिपूर्ण करने में यहां की वैज्ञानिक टीम हमेशा चर्चा रही है। अब आईआईटी (IIT) भूकंप (Earthquake), जलवायु परिवर्तन, आकाश गंगा जैसे रहस्यों से भी पर्दा उठाएगा। कुछ ऐसे रहस्य जिन्हे कोई नही जानता है, ऐसे राज से अब यहां के वैज्ञानिक रिसर्च करके पर्दा उठाएंगे। जिसकी जानकारी लोगों को आसानी से हो सकेगी। ये शोध देश के पहले सुपर सुपर कंप्यूटर (Super-Super Computer) के माध्यम से संभव होगा, जिसे आईआईटी कानपुर में स्थापित किया गया है। दरअसल इस रिसर्च के लिए सुपर कंप्यूटर से भी कई गुना अधिक तेज गति की जरूरत थी। जो अब सुपर सुपर कंप्यूटर संभव कर सकेगा, जो 1.3 पेटा फ्लॉप की गति से चलेगा।

आईआईटी कानपुर नए नए शोध करके आम जनमानस की समस्याओं को दूर करने में प्रयासरत है। अब यहां के वैज्ञानिक सुपर सुपर कंप्यूटर के माध्यम से अनसुलझी प्राकृतिक आपदाओं पर शोध करने जा रहे हैं। इसको संचालित करने के लिए सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ एडवांस्ड कंप्यूटिंग (सीडैक) के साथ समझौता भी हो चुका है। इस सुपर सुपर कंप्यूटर से सिर्फ वैज्ञानिक शोध नहीं करेंगे, बल्कि संस्थान समेत कई शिक्षण संस्थान के छात्रों को लाभ मिलेगा। बताया गया कि इसको इंटरनेट के माध्यम से चलाया जाएगा। आईआईटी कानपुर के बाद सुपर सुपर कंप्यूटर को आईआईटी रुड़की व आईआईटी मंडी में भी लगाने की तैयारी है। जिससे शोध को बढ़ावा दिया जा सके। आईआईटी कानपुर में इससे पहले दो सुपर कंप्यूटर लगे हुए हैं।