आखिरकार मोदी सरकार ने वो फैसला किया, जिसका इन्तजार सिर्फ भारत वालो नही सारी दुनिया को था

पिछले एक वर्ष में देश और दुनिया ने कई सारी तकलीफे देखी और बड़ी ही परेशानियों से होकर के सब लोग गुजरे है ये तो हर कोई देख ही रहा है, अब ऐसे वक्त में सरकारों का जो भी फर्ज बनता था उन्होंने कही न कही उसे निभाने की हर संभव कोशिश भी और ये हमें नजर भी आ रहा है, लेकिन फिर भी करोना से उबरने में काफी लम्बा वक्त लग गया. मगर अब लग रहा है कि चीजे बदलने वाली है क्योंकि बहुत ही भारी और बड़ा वाला बजट सरकार ने अपनी पोटली में से कुछ विशेष काम के लिए निकाला है.

सीरम इंस्टीटयूट और भारत बायोटेक को दिये 4500 करोड़
अभी की मीडिया रिपोर्ट में बात सामने आयी है कि भारत सरकार के वित्त मंत्रालय ने तुरंत प्रभाव से भारत में टीको का निर्माण कर रही दो कम्पनियों सीरम इंस्टीटयूट ऑफ इंडिया और भारत बायोटेक को क्रमशः 3000 करोड़ और 1500 करोड़ रूपये की मदद दे दी है, ये पैसा इनको क्रेडिट के रूप में जल्द से जल्द पहुंचाया जा रहा है. इसकी मदद से इनके टीके के निर्माण करने की क्षमता कई प्रतिशत या फिर दुसरे शब्दों में कहे तो कई गुना बढ़ जायेगी और ये एक जादू जैसा होगा.

भारत के नागरिको को कुछ ही महीनो में देना होगा टीका, दुनिया की उम्मीदों पर भी खरा उतरना है
भारत के नागरिको जिनकी आबादी आज 130 करोड़ से भी ज्यादा है उन सभी को टीका दिया जाना है, फिर विश्व भर के अलग अलग देश जिनमे मिडल और लोअर इनकम देश अधिक है उन सभी को भी टीका भारत ही देगा और करोना से बचाएगा ऐसे में ये बात कही न कही बहुत ही अधिक मायने रखने लग जाती है कि किसी न किसी तरह से भारत अपने टीके के निर्माण की क्षमता को बढाए.

एक्सपर्ट्स का मानना है कि ये जो पैसा सरकार ने इन टीका बनाने वाली कम्पनियों को दिया है इससे भारत कम से कम कई महीनो पहले ही करोना से बाहर आ जाएगा और ये अपने आप में एक बहुत ही बड़ा इम्पैक्ट भी डालने वाला है.